script काउंटर में खत्म ही नहीं हो रही यात्रियों की भीड़ इसलिए यूटीएस से इस्तेमाल कराने रेलवे का जोर | The crowd of passengers in the counter is not ending, hence Railways i | Patrika News

काउंटर में खत्म ही नहीं हो रही यात्रियों की भीड़ इसलिए यूटीएस से इस्तेमाल कराने रेलवे का जोर

locationजांजगीर चंपाPublished: Jan 16, 2024 09:30:27 pm

Submitted by:

Anand Namdeo

रेलवे स्टेशनों में टिकट काउंटर में भीड़ को खत्म करने और लोगों को बिना लाइन में लगे जनरल टिकट बनाने के लिए रेलवे प्रशासन ने यूटीएस एप बनाया है।

काउंटर में खत्म ही नहीं हो रही यात्रियों की भीड़ इसलिए यूटीएस से इस्तेमाल कराने रेलवे का जोर
काउंटर में खत्म ही नहीं हो रही यात्रियों की भीड़ इसलिए यूटीएस से इस्तेमाल कराने रेलवे का जोर
इस सुविधा को शुरु किए लगभग दो साल होने को है लेकिन इसके बाद भी काउंटर में यात्रियों की भीड़ खत्म नहीं हो रही है। गिनती के यात्री ही इसका उपयोग कर रहे हैं। इसको देखते हुए रेल प्रशासन के द्वारा काउंटर से जनरल टिकट देने के बजाए ज्यादा से ज्यादा यात्रियों को यूटीएस का इस्तेमाल करने कहा जा रहा है। इतना ही नहीं टिकट काउंटर में बैठे कर्मचारी खुद ही यात्रियों के मोबाइल पर यूटीएस के जरिए टिकट बना दे रहे हैं ताकि उपयोग ज्यादा दिखे। ऐसा भी कहा जा रहा है कि आगामी दिनों में टिकट काउंटर से जनरल टिकट नहीं मिलेगा, केवल आरक्षित टिकट भी मिलेंगे। ऐसे में यात्रियों को यूटीएस का उपयोग करने पर जोर दिया जा रहा है। या तो यूटीएस एप का उपयोग करना होगा या फिर आटोमैटिक टिकट वेडिग मशीन से जनलर टिकट मिलेगी। इसलिए यूटीएस के उपयोग करने पर जोर दिया जा रहा है। जिले के भी रेलवे स्टेशनों में इन दिनों जनरल टिकट लेने के लिए पहुंचे रहे यात्रियों को पहले यूटीएस से ही टिकट बनाने पर जोर दिया जा रहा है। वहीं ग्रामीण, बुजुर्ग या जिनके पास स्मार्टफोन फोन नहीं है, उन्हें जनरल टिकट दिया जा रहा है।

प्रक्रिया एकदम आसान, बढिय़ां सुविधा फिर से उपयोग नहीं कर रहे यात्री


बता दें, यूटीएस रेलवे का मोाबाइल एप्लीकेशन है जिसे आसानी से स्मार्टफोन में डाउनलोड किया जा सकता है। इसके जरिए काउंटर में लाइन लगाए बिना ही रेलवे स्टेशन के 20 किलो के दायरे के अंदर कहीं से भी बैठे-बैठे जनरल टिकट बनाया जा सकता है। प्रक्रिया भी एक सरल बनाई गई है ताकि कोई भी आसानी से उपयोग कर सके। इसे 2 साल पहले लागू किया गया। पहले इसका दायरा 5 किमी था जिसे अब 20 किमी कर दिया है। मगर इसके बाद भी रेलवे स्टेशन में टिकट काउंटर में भीड़ जस की तस वाली स्थिति है। इसको लेकर देखते हाल ही में रेलवे ने सभी स्टेशन मास्टरों को निर्देश जारी किया गया है कि यात्रियों को जनरल टिकट देने के बजाए यूटीएस के जरिए टिकट बनाने जोर दे। यहां तक यात्री अगर खुद से नहीं बना पा रहे हैं तो पहली बार कर्मचारी ही उन्हें उनके मोबाइल पर टिकट बनाना सिखाएं।
आटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीन भी


रेलवे स्टेशन परिसर में आटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीन भी लगाई गई है। यहां से भी यात्री जनरल टिकट बनवा सकते हैं। जांजगीर-नैला रेलवे स्टेशन में भी यह मशीन लगी है। इस मशीन को भी शुरु कर दिया है। ओटीएस के अलावा इस मशीन से भी टिकट लेने पर यात्रियों को जोर दिया जा रहा है। मशीन के पाए एक कर्मचारी मौजूद रहेगा तो यात्रियों को टिकट बनाकर देगा।

-यूटीएस का उपयोग ज्यादा से ज्यादा कराना है। इसके लिए टिकट काउंटर में यात्रियों को इसका उपयोग करने कहा जा रहा है। कर्मचारियों के द्वारा पहली बार यूटीएस का इस्तेमाल करने यात्रियों का सहयोग भी कर रहे हैं। इसके अलावा आटोमेटिक वेंडिंग मशीनें भी यहां लगी है।
विद्या विनय कुमार, मुख्य स्टेशन मास्टर

ट्रेंडिंग वीडियो