उपचुनाव में हार के बाद सामने आए धनंजय सिंह, कहा मुझे जिला प्रशासन और भाजपा के एक मंत्री ने हराया

  • सपा के लकी यादव ने धनंजय सिंह को 4,046 वोटों से हराया है
  • धनंजय संह को मल्हनी उपचुनाव में मिले 68,780 वोट
  • वोटकटवा कहे जाने पर कहा कुछ लोग पीएम मोदी और सीएम योगी के चलते जीते

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

जौनपुर. मल्हनी विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में हार के बाद निर्दलीय प्रत्याशी धनंजय सिंह ने हार का ठीकरा सत्ताधारी पार्टी के मंत्री, नेताओं और जिला प्रशासन पर फोड़ा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि जिला प्रशासन मुझे हराने के लिये पूरी तरह से सपा का साथ दे रहा था। अपने कुछ वोटरों को वोटिंग के लिये निकलने से रोकने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने दावा किया है कि अगर प्रशासन निष्पक्ष रहता तो उन्हें 5 से सात हजार वोट और मिलते। धनंजय सिंह ने कहा है कि 12 से 14 महीने के बाद अगला चुनाव होगा और उसमें हम भारी मतों से जीतकर दिखाएंगे।

 

आखिरी तीन दिन काफी परेशान किया गया

हार के बाद धनंजय सिंह का बयान सामने आया है। इस बयान में उन्होंने प्रशासन और बिना नाम लिये भाजपा के एक मंत्री व स्थानीय भाजपा नेताओं पर उन्हें हराने का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि प्रशासन ने आखिरी तीन दिनो में उनके लोगों को काफी परेशान किया और पकड़ा भी। इसी डर के चलते उनके पांच से सात हजार वोटर नहीं निकले। उनका दावा है कि 60 से 70 बूथें की वजह से उनका चुनाव गड़बड़ाया है। उन्होंने प्रशासन पर पोलिंग वाले दिन उनके प्रभाव वाले क्षेत्र के बूथों पर भय का वातावरण बनाने का आरोप लगाया।

इसे भी पढ़ें- सपा के गढ़ में नहीं चली धनंजय सिंह की धाक, पिता की सीट जीते लकी यादव

 

योगी जी को क्या मुंह दिखाएंगे

उन्होंने बिना नाम लिये भाजपा के एक मंत्री का जिक्र करते हुए कहा कि जो भाजपा को यादव बिरादरी का वोट दिलाने की बात कर रहे थे वो अब क्या मुंह दिखाएंगे। जब समीक्षा होगी तो इन्हें अपना टिकट बचाना मुश्किल हो जाएगा। हालांकि मजे की बात यह रही कि धनंजय सिंह प्रशासन पर और स्थानीय मंत्री तक पर आरोप लगाते दिखे, लेकिन सरकार का कोई जिक्र तक नहीं किया। एक बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम जरूर लिया, लेकिन सिर्फ यह बताने के लिये कि ये लोग अब योगी जी को क्या मुंह दिखाएंगे। बताते चलें कि धनंजय सिंह भाजपा गठबंधन के तहत निषाद पार्टी से टिकट चाहते थे, लेकिन भारतीय जनता पार्टी इससे इनकार कर दिया। उन्होने खुद को वोटकटवा कहे जाने पर कहा कि कुछ लोग पीएम मोदी की लहर में और सीएम योगी के नाम पर जीते हैं, असल में वो रानीति के नौसीखिये हैं।

इसे भी पढ़ें- सपा के लिये मल्हनी विधानसभा सीट से खुशखबरी, पीछे चल रहे लकी यादव ने बनायी बढ़त

 

 

ज्यादा मिले वोट, कम हुआ हार का अंतर

धनंजय सिंह मल्हनी उपचुनाव में 68,780 वोट (लगभग 69000) पाकर इस बार भी दूसरे स्थान पर रहे। उन्हें पूर्व मंत्री स्व. पारसनाथ यादव के बेटे और सपा प्रत्याशी लकी यादव ने 4,604 वोटों से हराया। लकी यादव को 73,338 वोट मिले, जबकि भाजपा प्रत्याशी मनोज कुमार सिंह 28,803 वोट पाकर तीसरे और बसपा के जय प्रकाश दुबे 25,126 वोटों के साथ चौथे पायदान पर सिमट गए। हालांकि हार का अंतर पिछली बार से काफी कम रहा। 2017 के विधानसभा चुनाव में जहां निषाद पार्टी के टिकट पर लड़े धनंजय सिंह पूर्व मंत्री पारसनाथ यादव से 21203 वोटों से हारे थे, जबकि इस बार हार का अंतर सिर्फ 4,604 वोटों का ही रहा। पारसनाथ यादव के निधन के बाद मल्हनी सीट पर उपचुनाव हुआ है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned