राजस्थान में पु​लिस पर भारी ​क्रिमिनल्स: 2 जिलों में नाकाबंदी, 7 थानों की पुलिस का पहरा, फिर भी बच निकले दहशतगर्द

Nidhi Mishra | Publish: Feb, 22 2018 09:57:53 AM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

सात थानों की पुलिस को चकमा दे डॉन बनने की तैयारी में राजस्थान के ये शातिर अपराधी

 

राजस्थान में लगातार पुलिस पर क्रिमिनल्स भारी पड़ रहे हैं। ताजा मामला है जोधपुर जिले का। यहां मसूरिया नट बस्ती के बाहर से एक युवक का अपहरण कर बाड़मेर जिले में कवास हाईवे पर हत्या करने के मामले में परिजन ने जोधपुर व बाड़मेर पुलिस की कार्रवाई पर सवालिया निशान उठाए हैं। अपहरण के बाद युवक के साथी के दोनों जिलों के पुलिस कंट्रोल रूम (पीसीआर) में सूचना देने के बावजूद अपहरणकर्ता स्कॉर्पियो व बोलेरो कैम्पर में करीब 160 किमी दूर जा पहुंचे और फिर लाठियों से पीट-पीटकर हत्या कर दी। जबकि बीच में आने वाले सात पुलिस स्टेशन तक उन्हें पकड़ नहीं सके। पुलिस की लापरवाही को हत्या की वजह बताते हुए परिजन ने दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ तीन दिन में कार्रवाई की मांग की है।

 

 

नाकाबंदी में लापरवाही, पकड़े जाते तो नहीं होती हत्या


हरीश जाखड़ की हत्या को लेकर परिजन व परिचितों ने बुधवार को बाड़मेर में रोष जताया। उन्होंने बाड़मेर पुलिस को एक ज्ञापन भी सौंपा। जिसमें आरोप लगाया कि अपहरण के दौरान साथी उमेश बेनीवाल बच गया था। हरीश को लेकर रवाना होने के बाद उमेश ने मंगलवार दोपहर 1.12 बजे बाड़मेर कन्ट्रोल रूम व दोपहर 1.21 बजे जोधपुर कन्ट्रोल रूम सूचना दी थी। इसके बावजूद अपहरणकर्ता करीब 160 किमी तक भाग निकले। पुलिस का दावा है कि उन्होंने नाकाबंदी कराई थी, लेकिन रास्ते में आने वाले सात थानों की पुलिस उन्हें पकड़ नहीं पाई। यदि समय रहते अपहरणकर्ताओं को रोक लेते तो हत्या से बचा जा सकता था।

 

पोस्टमार्टम कराया है, आरोपियों की तलाश कर रहे हैं


सहायक पुलिस आयुक्त (प्रतापनगर) स्वाति शर्मा ने बताया कि बाड़मेर जिले में शिव थानान्तर्गत काश्मीर निवासी हरीश जाखड़ की हत्या के मामले की जांच कर रहे प्रतापनगर थानाधिकारी अचल सिंह बुधवार को बाड़मेर गए, जहां राजकीय चिकित्सालय में हरीश का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करा शव परिजन को सुपुर्द किया गया। वारदात में शामिल बाड़मेर जिले के चौहटन थानान्तर्गत बावड़ी कला निवासी घेवरराम (25) पुत्र टीकमराम जाट को गिरफ्तार किया गया। उसे जोधपुर से ही पकड़ा गया है। एफआईआर में नामजद आरोपी खरताराम गोदारा, अरूण हुड्डा, भगाराम व बाबूराम आदि की तलाश की जा रही है। परिजन ने बाड़मेर ज्ञापन दिया है। पुलिस पहरे में शिकायतकर्ता उमेश अपहरण के दौरान हरीश के साथ उमेश बेनीवाल व जूंजाराम भी थे। अपहरणकर्ताओं के निशाने पर मुख्य रूप से उमेश बेनीवाल था, लेकिन हरीश उनके हत्थे चढ़ गया था। उमेश व जूंजाराम अपहरण से बच गए थे। उमेश ने ही पुलिस में अपहरण का मामला दर्ज कराया। जिसमें बाद में हत्या की धारा जोड़ दी गई। बाड़मेर के कई मामलों में उमेश वांछित है। ऐसे में वह पुलिस पहरे में है। हत्या के मामले में जांच के बाद उसे बाड़मेर पुलिस को सौंपा जाएगा।

 

भैराराम ने ऑडियो वायरल करके दी थी धमकी


बाड़मेर में भैराराम व टीकम उर्फ अरूण हुड्डा गैंग में लम्बे समय से विवाद चल रहा है। भैराराम गैंग ने जैसलमेर रोड पर बम्बोर टोल नाके के पास झंवर थाने की जीप लूटी थी। मृतक हरीश जाखड़ भी शामिल था। टीकम गैंग ने इसकी सूचना पुलिस को दी थी। जिसका बदला लेने के लिए भैराराम गैंग ने खरताराम गोदारा के घर हमला करके फायरिंग व वाहन में आग लगाई थी। गत दिनों भैराराम ने दो ऑडियो वायरल करके पुलिस के समक्ष पेश होने से पहले टीकम उर्फ अरूण और भगाराम को सबक सिखाने की धमकी दी थी। झंवर पुलिस के पास भी यह ऑडियो पहुंचे थे

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned