scriptAmazing Research Kanpur IIT new medicine arthritis pain surprised pric | Amazing Research : कानपुर आइआइटी की नई दवा दूर करेगी गठिया का दर्द, कीमत जानेंगे तो हो जाएंगे हैरान | Patrika News

Amazing Research : कानपुर आइआइटी की नई दवा दूर करेगी गठिया का दर्द, कीमत जानेंगे तो हो जाएंगे हैरान

Kanpur IIT Amazing Research कानपुर आइआइटी ने गठिया के दर्द से परेशान मरीजों के लिए एक नई दवा की ईजाद की है। सिर्फ 14 दिन इस दवा का प्रयोग कर आप गठिया से मुक्ति पा सकेंगे। और अगर कीमत की बात करें तो सिर्फ एक हजार रुपए वायल। गठिया से अगर छुटकारा पाना है तो जानें और जानकारी।

कानपुर

Published: April 26, 2022 04:32:21 pm

Arthritis Pain अब गठिया से परेशान मरीजों के चेहरे पर मुस्कान आएगी। कानपुर आइआइटी ने गठिया (आस्टियोआर्थराइटिस) के इलाज की एक नई दवा ढूंढ़ निकाली है। इस दवा को जोड़ों की हड्डियों के बीच मौजूद कार्टिलेज टिश्यू में इंजेक्ट कराया जाता है। जिसके बाद कार्टिलेज फिर से बनने लगता है। और गठिया छूमंतर हो जाता है। आइआइटी का दावा है कि इसके प्रयोग से रोग महज 14 से 20 दिन में ठीक हो जाएगा। वर्तमान में आस्टियोआर्थराइटिस का एकमात्र इलाज ज्वाइंट रिप्लेसमेंट है। जिसमें एक लाख रुपए तक खर्च आता है। पर इस दवा की एक वायल अधिकतम एक हजार रुपए तक होगी।
iit_kanpur1.jpg
कार्टिलेज हो जाएगा दुरूस्त और गठिया छूमंतर

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) कानपुर के विज्ञानियों का दावा है कि, इस दवा के प्रयोग से हड्डियों के जोड़ों के टिश्यू फिर अपनी पुरानी स्थिति में जा जाएंगे। और आपरेशन की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। कार्टिलेज की मौजूदगी से ही घुटने, कोहनी, कूल्हे आदि अंग सुचारू रुप से काम करते हैं। जब इन हड्डियों के बीच कार्टिलेज की परत कमजोर होती है। तो जोड़ों में सूजन, दर्द और अकड़न होने लगती है। और गठिया का जन्म होता है। प्रयोगशाला में बकरी और घुटना रिप्लेसमेंट के मरीजों के मृत टिश्यू पर इसके सफल प्रयोग से उम्मीद की किरण जागी है।
यह भी पढ़ें

सेंट्रल बैंक कानपुर लॉकर केस : देश के इतिहास में पहली बार बैंक ने दिया इतना बड़ा मुआवजा जानें

दवा को किया जाता है इंजेक्ट

आइआइटी के बायोलाजिकल साइंस एंड बायोइंजीनियरिंग विभाग के प्रो. धीरेंद्र बताते हैं कि, इस दवा को सल्फेटेड कार्बोक्सी मिथाइल सेलुलोज और टिशू इनबिटर आफ मेटालोप्रोटीज मिलाकर तैयार किया गया है। सल्फेटेड कार्बोक्सी मिथाइल सेलुलोज को लैब में बनाया जा सकता है। और दूसरी दवा मालीक्यूल शरीर के अंदर ही होती हैं। उसका अंश लेकर दवा तैयार की जाती है। इस दवा को जोड़ों के बीच इंजेक्शन से पहुंचाया जाता है।
यह भी पढ़ें

यूपी आवास विकास परिषद का गिफ्ट, दाखिल खारिज शुल्क में भारी कमी, जानकर चौंक जाएंगे

दिसम्बर तक बाजार में मिलेगी दवा

प्रो. धीरेंद्र आगे बताते हैं कि, जब दवा इंजेक्ट हो जाती है तो कार्टिलेज बनाती है। इससे गठिया रोग बिना किसी सर्जरी के ठीक हो सकता है। इस आविष्कार को इंटेलेक्चुअल प्रापर्टी इंडिया के तहत पेटेंट कराया गया है। जल्द ही तकनीक को फार्मूले में बदलकर उसे हस्तांतरित किया जाएगा। जल्द ही जर्नल में प्रकाशित होगा। वर्ष 2022 के अंत तक बाजार में दवा उपलब्ध हो जाएगी।
सिर्फ छह हजार में गठिया का इलाज

प्रो. धीरेंद्र ने बताया कि, वैसे गठिया का अभी तक कोई सटीक इलाज नहीं है। डाक्टर दर्द निवारक दवा या व्यायाम की सलाह देते हैं। बीमारी गंभीर होने पर घुटने या कोहनी का ट्रांसप्लांट करते हैं। अगर गठिया के लक्षण शुरुआती दौर में पता चल जाते हैं तो रोग को महज 14 से 20 दिन में ठीक किया जा सकता है। इस दवा की एक वायल अधिकतम एक हजार रुपए तक होगी। शुरुआती स्टेज में पांच से छह वायल दवा के इस्तेमाल से उपचार हो सकेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.