यहां हो गयी ऐसी समस्या खडी, रोगियों को नाव से लेकर अस्पताल पहुंच रहे हैं लोग

यहां हो गयी ऐसी समस्या खडी, रोगियों को नाव से लेकर अस्पताल पहुंच रहे हैं लोग

Arvind Kumar Verma | Publish: Sep, 09 2018 11:27:23 AM (IST) Kanpur, Uttar Pradesh, India

भारी बारिश से जनपद की सेंगुर नदी उफान पर है जिससे नदी किनारे बसे गांव के लोग अब नाव के सहारे गांव से बाहर निकल रहे हैं यहाँ तक कि मरीजों को भी नाव से अस्पताल ले जाया जा रहा है

कानपुर देहात-लगातार हो रही बारिश में अब लोगों का जीना मुहाल हो रहा है। जनपद से गुजरी नहर व नदियों का जलस्तर घटने का नाम नही ले रहा है। ऐसे ही कुछ हालात सेंगुर नदी के हैं, जिसका जल स्तर बढ़ने के कारण कई गांव में भारी समस्या खड़ी हो गयी है। बताया गया कि संदलपुर विकास खंड के संदना व लाड़पुर गांव में पानी से इस कदर घिरे हुए हैं कि इस स्थिति में लोग नाव के सहारे ही गांव के बाहर निकल पा रहे है। यहां तक कि बीमार लोगों को हवासपुर अस्पताल उपचार के लिये जाने के लिए सिर्फ नाव ही एक मात्र सहारा बनी हुई है। जिससे मरीजों के लिए बड़ी दिक्कत खड़ी ही गयी है।

 

लगातार हो रही बारिश से सेंगुर नदी का जल स्तर बढ़ रहा है। जिसके कारण नदी किनारे वाले संदना, लाड़पुर छिवना गांव के लोगों को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। देखा जाए तो सड़क के मार्ग से हवासपुर सीएचसी करीब 15 किलोमीटर का रास्ता पड़ता है। वहीं इन गांवों के लोगों को बाजार करने व अन्य कार्यों के लिए भी धरमपुर गांव जाना होता हैं लेकिन नदी में उफान के भय से अब लोगों की नीद उड गयी है। खेलकूद करने वाले बच्चों के चेहरे पर सिकरन दिखने लगी है। इसके अतिरिक्त जलभराव के चलते गांवों में लोग बुखार से पीड़ित हो गए लेकिन सीएचसी जाने के लिये कोई सीधा रास्ता न होने की वजह से अब केवल नाव का ही सहारा बचा है।

 

सदना ग्राम प्रधान खुशबू कटियार, लाड़पुर छिवना ग्राम प्रधान मनोज पाल ने बताया कि गांव से हवासपुर जाने के लिये सीधा रास्ता नहीं है। सड़क के सहारे मंगलपुर से हवासपुर जाने के लिये 15 किलो मीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। वहीं नदी पार कर मात्र सात किलो मीटर की दूरी तय करनी होती है लेकिन स्थितियां ऐसी बनी है कि लोगों को कोई रास्ता नही दिख रहा है। इसलिए गांवों के लोग हवासपुर जाने के लिए नाव का ही सहारा लेते हैं।

Ad Block is Banned