ऐसा गेहूं इंसान तो क्या मवेशी भी न खाएं

ऐसा गेहूं इंसान तो क्या मवेशी भी न खाएं
ऐसा गेहूं इंसान तो क्या मवेशी भी न खाएं,ऐसा गेहूं इंसान तो क्या मवेशी भी न खाएं

Anil dattatrey | Updated: 11 Oct 2019, 11:13:00 PM (IST) Karauli, Karauli, Rajasthan, India

Do not such wheat humans also eat cattle.Ration dealer distributed rotten wheat Consumers reached SDO office to demonstrate.

राशन डीलर ने बांट दिया सड़ा हुआ गेहूं ,उपभोक्ताओं ने एसडीओ कार्यालय पहुंच किया प्रदर्शन

हिण्डौनसिटी. उपखंड क्षेत्र के बाढ़ ढिंढोरा गांव में शुक्रवार को राशन डीलर ने उपभोक्ताओं को सड़े हुए गेहूं का वितरण कर दिया। इसके विरोध में ग्रामीण एसडीओ कार्यालय पहुंच गए और प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा। इस पर उप जिला कलक्टर सुरेश कुमार बुनकर ने रसद विभाग के प्रवर्तन निरीक्षक जगदीश शर्मा को मामले की जांच कर डीलर के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिए।


ग्रामीणों प्रेमसिंह, मोहरसिंह, बबीता आदि ने बताया कि बाढ़ ढिंढोरा गांव में राशन सामग्री वितरण के लिए रसद विभाग ने डीलर गुरूदयाल डागुर को अधिकृत कर रखा है। उपभोक्ता जब उचित मूल्य की दुकान पर राशन का गेहूं लेने पहुंचे तो डीलर ने उनको सड़ा हुआ गेहूं वितरण कर दिया।

ग्रामीणों ने बताया कि ऐसे गेहूं को मानव तो क्या मवेशी भी न खाएं। आरोप है कि ग्रामीणों के विरोध करने पर राशन डीलर भडक़ गया और अभद्रता की। इस दौरान सुरेश करसोलिया, गीतादेवी, सावित्री, राधा, अमरबाई, कमलेश आदि मौजूद थे। इधर प्रवर्तन निरीक्षक जगदीश शर्मा ने बताया कि राशन डीलर द्वारा ग्रामीणों को सड़े गेहूं का वितरण का करने मामला सामने आया है। जिन उपभोक्ताओं को खराब गेहूं मिला है, उन्हें गेहूं बदल कर देने के लिए डीलर को निर्देश दिए हैं। उपभोक्ताओं से अभद्रता के मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned