सूर्य उत्तरायण मकर संक्रांति पर तीर्थनगरी में उमड़ी भीड़

-नर्मदा स्नान कर सूर्य को दिया अघ्र्य, किए ज्योतिर्लिंग दर्शन
-संत सिंगाजी धाम में भी लगा श्रद्धालुओं का मेला, बैक वाटर में किया स्नान

खंडवा. सूर्य उत्तरायण पर्व मकर संक्रांति पर बुधवार को ओंकारेश्वर में 25 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान कर सूर्य को अघ्र्य दिया। मकर संक्रांति पर तीर्थनगरी ओंकारेश्वर के साथ ही संत सिंगाजी धाम में भी श्रद्धलुओं की भीड़ उमड़ी। यहां भी 20 हजार से अधिक श्रद्धालु पहुंचे और बैक वाटर में स्नान कर सिंगाजी महाराज की चरण पादुका और अखंड ज्योत के दर्शन किए।
मकर संक्रांति को लेकर तीर्थनगरी में सुबह से ही घाटों पर नर्मदा स्नान का सिलसिला शुरू हो गया था। लोगों ने स्नान कर सूर्य को अघ्र्य दिया और दान-पुण्य किया। इसके बाद श्रद्धालुओं ने ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर और ममलेश्वर मंदिर में भगवान के दर्शन किए। वहीं, ओंकार पर्वत की परिक्रमा भी की। इस बार संक्रांति पर दो तिथियों के फेर में बुधवार को मकर संक्रांति पर कम ही श्रद्धालु पहुंचे। एक दिन पूर्व ही अधिकांश श्रद्धालुओं ने मकर संक्रांति मनाते हुए नर्मदा स्नान किया था। बुधवार दोपहर को ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में मध्याह्न आरती के समय बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे।
अभिषेक, शृंगार के साथ हुई आरती
निमाड़ के निर्गुणी संत सिंगाजी महाराज के दर्शन के लिए मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओ की भारी भीड़ रही। लोगों ने बैक वाटर में नर्मदा स्नान कर समाधि दर्शन किए। भक्तों की भीड़ को देखते हुए बीड़ पुलिस चौकी व अन्य जगह का बल यहां तैनात रहा। मकर संक्रांति पर संत सिंगाजी धाम में दिन कीे शुरुआत सुबह संत की चरण पादूका के अभिषेक शृंगार और आरती पूजन के साथ हुई। दोपहर को संत सिंगाजी को हलुआ का भोग प्रसाद चढ़ाकर भोग आरती की गई। शाम को संत सिंगाजी महाराज की आरती कर मकर संक्रांति मनाई गई और तिल गुड़ बांटा गय।ा मंदीर के मंहत रतन महाराज ने बताया कि दो दिन मे बड़ी संख्या में सिंगाजी भक्त यहा पहुंचे ओर संत समाधी, अंखड ज्योत के दर्शन किए।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned