तृणमूल छात्र परिषद की सभी कमेटिया भंग

तृणमूल छात्र परिषद की सभी कमेटिया भंग

MANOJ KUMAR SINGH | Publish: Sep, 08 2018 11:27:06 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

सात दिन के भीतर नई कमेटी का गठन करेगी सलाहकार कमेटी

 

संगठन के अध्यक्ष पद से हटाई गई जया दत्त को सलाहकार कमेटी का संयोजक बनाया गया है और इसके चेयरमैन पार्थ चटर्जी, को- चेयरमैन ममता बनर्जी के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी हैं।
कोलकाता

तृणमूल कांग्रेस ने शनिवार अपने छात्र संगठन तृणमूल छात्र परिषद की राज्य और सभी जिला कमेटियों को भंग कर दिया। साथ ही एक सलाहकार कमेटी का गठन कर सात दिन के भीतर संगठन की नई कमेटी गठन करने का समय-सीमा निर्धारित कर दी।
तृणमूल कांग्रस के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी के नेतृत्व में इस दिन तृणमूल भवन में पार्टी की कोर कमेटी की बैठक हुई। बैठक में तृणमूल छात्र परिषद के नए अध्यक्ष के चुनाव के बारे में चर्चा की गई। लेकिन पार्टी के नेता इस बारे में किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाए। अंत में कोर कमेटी ने तृणमूल छात्र परिषद की सभी कमेटियां भंग कर फिर से नई कमेटी गठन करने का फैसला किया और नई कमेटी गठन करने के लिए सलाहकार कमेटी का गठन कर दिया। संगठन के अध्यक्ष पद से हटाई गई जया दत्त को सलाहकार कमेटी का संयोजक बनाया गया है और इसके चेयरमैन पार्थ चटर्जी, को- चेयरमैन ममता बनर्जी के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी हैं। इसके अलावा कमेटी में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सुब्रत बक्सी, तापस राय,अशोक देव और वैश्वनर चट्टोपाध्याय शामिल हैं।

बैठक में राज्य के पंचायत मंत्री सुब्रत मुखर्जी भी उपस्थित थे। बैठक में तृणमूल छात्र परिषद के सभी जिला अध्यक्षों से इस्तीफा मांगने का फैसला किया गया। उन्हें कहा जाए कि तृणमूल छात्र परिषद के सभी जिला अध्यक्ष अनिवार्य रुप से अपने पद से इस्तीफा देने और जिला अध्यक्ष पद के उम्मीदवार के लिए प्रत्येक जिले से पांच-पांच सदस्यों के नाम भेजें। सलाहकार कमेटी उन्हीं में से जिला अध्यक्षों का चयन करेगी। 28 अगस्त को तृणमूल छात्र परिषद के स्थापना दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने संगठन की पूर्व अध्यक्ष जया दत्त को ले कर एक कमेटी की घोषणा की थी और उस कमेटी को 15 दिन में नया अध्यक्ष चुनने का निर्देश दिया था।
छात्र संगठन के सदस्य के लिए निर्देशिका

बैठक में तृणमूल छात्र परिषद के सदस्य होने के लिए निर्देशिका तय की गई है। छात्र संगठन का सदस्य बनने के लिए छात्र होना अनिवार्य है। अध्यापकों के साथ बेहतर संबंध रखना होगा, छात्र जैसा आचरण करना होगा, क्लॉस में उपस्थिति ठीक रखनी होगी। उपस्थिति कम होने पर परीक्षा में हिस्सा लेने नहीं दिया जाएगा। इसके खिलाफ कॉलेज के गेट पर आंदोलन की अनुमति नहीं होगी। संगठन के सदस्यों को तृणमूल कांग्रस के सभी कार्यक्रमों में हिस्सा लेना होगा।

Ad Block is Banned