नाम के कैफे असली धंधा जानकर उड़ जाएंगे होश, मोटी कमाई के लालच में युवाओं को थमा रहे नशे की डोर

सरकार ने लगाई रोक पर अब भी चोरी-छिपे चल रहा नशे का
कारोबार, ई-सिगरेट व हुक्का युवाओं में बन रहा फैशन

 

By: Rajesh Tripathi

Published: 13 Aug 2019, 08:27 PM IST

कोटा. नशे की दुनिया में एक और नाम शुमार है, वो है 'हुक्का बारÓ...! अन्य व्यापार की आड़ में पर्दे के पीछे चोरी-छिपे चल रहे ये हुक्का बार युवाओं को तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहे हैं। किशोर और युवा दिखावा, फैशन व मौज मस्ती के चक्कर में खिंचकर हुक्का बार तक पहुंच रहे हैं। जहां उन्हें हुक्का में फ्लेवर तंबाकू व ई-सिगरेट जैसे नशों की डोर थमाई जा रही है। हालांकि सरकार ने इस पर रोक लगा दी है, लेकिन नशे के व्यापारी मोटी कमाई के लोभ में इस नहीं छोड़ पा रहे। ऐसे में अब भी नशे का ये नया कारोबार बदस्तूर जारी है।

शहर में कई जगहों पर चल रहे हुक्का बार
भले ही पुलिस व आबकारी विभाग शहर में अब हुक्का पार्लर संचालन नहीं होने का दावा कर रहे हों, लेकिन अभी भी शहर में कई ऐसे स्थान हैं जहां हुक्का पार्लर व इसकी आड़ में बार संचालन किया जा रहा है। फिर भी पुलिस व आबकारी विभाग इनपर कार्रवाई नहीं कर रहा। ऐसे में अवैध बार व हक्का पार्लर संचालक बैखौफ इन्हें चला रहे हैं।

सोशल मीडिया व युवाओं के जरिए प्रचार
हुक्का बार संचालक अनजान व्यक्ति या नए ग्राहक को हुक्का बार में प्रवेश नहीं देते। वे सोश्यल मीडिया व युवाओं के जरिए इसका प्रचार-प्रसार करते हैं। सोशल नेटवर्किंग के जरिए ही नाबालिगों को बार की जानकारी पहुंचाई जाती है। हुक्का बार में आने वाले नाबालिग या युवक अपने साथ अन्य छात्रों को लाते हैं।

राज्य सरकार ने लगाया प्रतिबंध
राज्य सरकार ने विश्व तम्बाकू दिवस के अवसर पर 31 मई को राज्य में ई-सिगरेट के उत्पादन, भंडारण, वितरणउपयोग पर पूरी तरह से प्रतिबंध की घोषणा कर कुछ दिनों बाद ही इस पर प्रतिबंध लगा दिया था। धूम्रपान की लत छुड़वाने के लिए ई-सिगरेट को विकल्प के रूप में प्रचारित कर युवाओं को भ्रमित किया जा रहा है। युवा पीढ़ी में इसके बढ़ते उपयोग को देखते हुए चिकित्सा विभाग द्वारा विशेष कमेटी बनाई। कमेटी ने रिपोर्ट में ई-सिगरेट को स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक बताया।

ऐसे पहुंचाता है नुकसान
ई-सिगरेट या वाष्पीकृत सिगरेट एक बैटरी चालित उपकरण है। जो निकोटीन या गैर-निकोटीन के वाष्पीकृत होने वाले घोल की सांस के साथ सेवन की जाने वाली खुराक प्रदान करता है। यह सिगरेट, सिगार या पाइप जैसे धूम्रपान वाले तंबाकू उत्पादों का एक विकल्प है। आईसीएमआर ने ई सिगरेट समेत सभी तरह के इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ईएनडीएस) पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की थी। आईसीएमआर का कहना है कि इनके इस्तेमाल से धूम्रपान नहीं करने वाले व्यक्तियों को भी निकोटीन की लत लग सकती है। ई सिगरेटए हीट नॉट बर्न डिवाइस, वेप, ई शीशा, ई निकोटीन वाला हुक्का व अन्य ईएनडीएस के तहत आते हैं। जिनका इस्तेमाल धूम्रपान के लिए किया जाता है।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर शुक्रवार को जारी श्वेत पत्र में आईसीएमआर ने बताया कि ई सिगरेट भी हृदय प्रणाली पर प्रतिकूल असर डालती है। सिगरेट की तरह ही श्वसन प्रतिरक्षा सेल्स पर असर डालती है। जो गंभीर श्वसन रोग के लिए जिम्मेदार होता है। इसके इस्तेमाल से नवजात और बच्चे के दिमागी विकास पर प्रतिकूल असर पड़ता है।

करेंगे सख्त कार्रवाई
स्वास्थ्य विभाग द्वारा शहर में संचालित सभी हुक्का बार पर कार्रवाई की जाएगी। हुक्का बार चलाना व ई-सिगरेट पिलाना गैर कानूनी है। सरकार ने इसके लिए कड़े कानून बनाए हैं। सिगरेट की नशे की आदत छुड़ाने के लिए ई-सिगरेट या हुक्का विकल्प नहीं है। ये स्वास्थ्य के लिए खासे नुकसानदायक है।
भूपेन्द्र सिंह तंवर,
सीएमएचओ, कोटा

ई सिगरेट व हुक्का बार पर पूर्ण प्रतिबंध है। सरकार ने इसके लिए कानून बनाकर इसे अवैध घोषित कर दिया है। ऐसी कोई भी सूचना मिलने पर कंट्रोल रूम, पुलिस स्टेशन, पुलिस अधीक्षक कार्यालय को दें। हुक्का बार चलाने पर संचालकों को खिलाफ कड़ी व त्वरित कार्रवाई की जाएगी।
दीपक भार्गव,
पुलिस अधीक्षक, कोटा शहर।

Show More
Rajesh Tripathi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned