आयुक्त बोले अगर साबित कर दो ये बात तो में दे दूंगा इस्तीफा

आयुक्त बोले अगर साबित कर दो ये बात तो में दे दूंगा इस्तीफा

Shailendra Tiwari | Publish: Feb, 09 2018 03:55:13 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

नगर निगम भवन से चंद फासले पर एक बिल्डर की मल्टीस्टोरी के गेट को स्टे के बावजूद तोडऩे को लेकर निगम बोर्ड की बैठक में आयुक्त सवालों से घिर गए।

कोटा . नगर निगम भवन से चंद फासले पर एक बिल्डर की मल्टीस्टोरी के गेट को स्टे के बावजूद तोडऩे को लेकर निगम बोर्ड की बैठक में आयुक्त सवालों से घिर गए। पार्षदों ने सवाल उठाया कि आखिर मंशा क्या थी। मामले में आयुक्त को स्वायत्त शासन मंत्री ने तलब किया है। अतिक्रमण को लेकर आयुक्त व अग्निशमन अधिकारी राकेश व्यास पार्षदों के निशाने पर रहे।

 

Read More : भाजपा पार्षदों ने आंखे मूंद किया 515 करोड़ का बजट पारित तो कांग्रेस पार्षदों ने किया हंगामा...देखिए तस्वीरें...

 

पार्षद बृजेश शर्मा, नरेन्द्र हाड़ा, रमेश आहूजा ने आरोप लगाया कि टार्गेट करके यह कार्रवाई की गई है। गेट तोडऩे से पहले महापौर को भी नहीं बताया। पार्षद धु्रव राठौर ने सरकार का आदेश भी सदन में दिखाया और कहा कि कार्रवाई के बारे में महापौर को दी जानी थी।

 

Read More : जन्मजात थी बीमारी, शरीर पड़ जाता था नीला, सांसे लगती थी फूलने, अब फिर से दौड़ेगा वो सचिन

 

हाड़ा ने बैठक में आरोप लगाया कि निगम के अतिक्रमण निरोधक दस्ते के प्रभारी राकेश व्यास शॉपिंग सेन्टर स्थित होटल जाते हैं। होटल में रहने वाले किरायेदारों को जगह खाली करने के लिए दबाव बना रहे हैं। इस मामले को लेकर हाड़ा व अतुल कौशल में तीखी बहस भी हुई। कौशल ने कहा कि गेट तोडऩे के मामले में व्यास को टार्गेट बनाया जा रहा है, जबकि कार्रवाई आयुक्त के निर्देश पर हुई। कौशल ने व्यास को तलब करने पर महापौर पर भी सवाल उठाया। इस दौरान व्यास मौन बैठे रहे।

 

Read More : राजस्थान की नं. 1 पुलिस के बगल में बना वारदातों का अड्डा, आधा दर्जन दुकानों व एक बैंक पर चोरों का धावा

 

सरकार से शिकायत
स्टे के बावजूद गेट तोडऩे के मामले में विधायकों ने भी कड़ी नाराजगी जताई थी। विधायक भवानीसिंह राजावत ने तो इस मामले में आयुक्त की शिकायत सरकार से की है। उन्होंने आयुक्त को फोन पर गेट तोडऩे पर नाराजगी भी जताई थी।

 

Read More : Good News : विद्यार्थियों को मिलेगा आधुनिक तकनीक का ज्ञान , माध्यमिक शिक्षा के सभी स्कूल होंगे कम्प्यूटराइज्ड

 

भाजपा से दुखी, इस्तीफा सौंपा!
बोर्ड बैठक में वार्ड 7 की पार्षद शकुंतला बैरवा ने वार्ड में विकास कार्यों में भेदभाव का आरोप लगाते हुए महापौर को इस्तीफा सौंप दिया। पार्षद ने कहा कि भाजपा की पार्षद हूं, लेकिन बहुत दुखी हूं। मेरी कोई सुनवाई नहीं हो रही। मेरे वार्ड में नगर विकास न्यास से 46 लाख के काम स्वीकृत हुए, लेकिन विधायक के इशारे पर दूसरे वार्ड में ये काम करवाए जा रहे। वह एक बार तो और बैठक छोड़कर चली गई, बाद में पार्षद मीनाक्षी खण्डेवाल समझाकर वापस लेकर आईं।
आरोप गलत
अग्निमशन अधिकारी राकेश व्यास का कहना है कि होटल के किराएदारों को खाली करने के लिए मैंने कोई दबाव नहीं बनाया। आरोप गलत हैं।

Read More : Video: राजस्थान सरकार के 'कमाऊपूत' की ऐसी दुर्दशा, अव्यवस्थाओं की मार चहुंओर भरमार


स्टे की कॉपी देना साबित कर दें, इस्तीफा दे दूंगा
मल्टीस्टोरी का गेट का काम बंद करवा दिया था, मल्टीस्टोरी के सामने से निकलता हूूं तो गेट का काम चालू दिखता था। बिल्डर को 11 बार चैम्बर में बुलाकर बात की। हर बार स्वयं गेट को हटाने की बात कहकर जाते थे। काम बंद नहीं करने पर मैंने गेट तुड़वाया है। इस कार्रवाई के बाद मुझ पर प्रेशर आ रहा है। मुझे तनाव हो गया है। गेट क्या तोड़ दिया जैसे आफत आ गई है। स्टे की कापी नहीं दी गई। यदि कार्रवाई से पहले स्टे की कापी देने की बात साबित कर दें तो मैं रिजाइन दे दूंगा।
डॉ. विक्रम जिन्दल, निगम आयुक्त (जैसा बोर्ड बैठक में कहा)

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned