कोरोना से यूपी में दो मौतों ने परिवार के 17 लोगों को किया संक्रमित, सावधान? निगेटिव रिपोर्ट भी हो रही पॉजिटिव

जांच करने वाले सभी डॉक्टर और मेडिकल स्टॉफ, परिवारीजन किए क्वारंटाइन...

लखनऊ. कोरोना वायरस अब थर्ड स्टेज में अपना रंग दिखा रहा है। देश की सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक दो लोगों की मौत चुकी है। पहली मौत बस्ती निवासी 25 वर्षीय युवक की गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई तो मेरठ में 72 वर्षीय बुजुर्ग ने अंतिम सांस ली। बस्ती के युवक की इतनी कम उम्र में कोरोना की वजह से मौत का यह देश में पहला मामला है। तो वहीं दो मौतों ने परिवार के 17 लोगों को भी संक्रमित कर दिया है। इसके अलावा संक्रमित मरीज के इलाज में लगे डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ और परिजनों को भी क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है।

मेरठ मेडिकल कालेज में जिस संक्रमित की मौत हुई है वह महाराष्ट्र के अमरावती से आए कोरोना संक्रमित युवक के ससुर थे। ससुराल आए इस युवक की 27 मार्च को रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके अगले ही दिन उनकी पत्नी तथा पत्नी के दो भाई भी पॉजिटिव हो गए। इसके बाद ससुस भी कोरोना वायरस की चपेट में आ गए। सभी को मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। जहां पर बुधवार को बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया। हीं मेरठ मेडिकल कालेज के कोराना वार्ड में भर्ती संक्रमित की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है। यह युवक महाराष्ट्र के अमरावती से अपनी ससुराल मेरठ आया था। इसके संपर्क में आए 16 लोगों को भी कोराना की पुष्टि हो चुकी है।

बस्ती के युवक की गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल में सोमवार को मौत हो गई थी। यह प्रदेश में किसी कोरोना पॉजिटिव की पहली मौत थी। इतनी कम उम्र में मौत का देश में यह पहला मामला है। युवक की मौत के बाद उससे जुड़े सभी लोगों की जांच की जा रही थी। जहां पर अब एक और युवक में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। इस मरीज की उम्र 26 वर्ष है। जिसका इलाज जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड मे रखकर किया जा रहा है। यह शख्स मृतक के सपर्क में आया था। वहीं मृतक मरीज की देखरेख में दो डॉक्टर, दो स्टाफ नर्स व दो वार्ड ब्वाय लगे थे। उन्हें तत्काल आइसोलेट करा दिया गया है। बिना व्यक्तिगत सुरक्षा किट के मरीज की लार का नमूना लेने वाले दो लैब टेक्नीशियनों को भी हास्टल में आइसोलेट करा दिया गया है।

सावधान? निगेटिव रिपोर्ट भी हो रही पॉजिटिव

इन सबके बीच कोरोना संक्रमण की नि्गेटिव रिपोर्ट के पॉजिटिव होने का मामला भी सामने आया है। लखनऊ के केजीएमयू में 18 मार्च से भर्ती मैगलगंज निवासी मरीज में पहली बार रिपोर्ट निगेटिव आई। ऐसे में उसके ठीक होने की उम्मीद जगी। डॉक्टर ने दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आने पर डिस्चार्ज का दावा किया। वहीं गुरुवार को 24 घंटे बाद दोबारा उसके स्वैब की जांच की गई। लैब में हुई जांच में 50 वर्षीय मरीज की रिपोर्ट फिर पॉजिटिव आई। ऐसे में डॉक्टरों ने डिस्चार्ज से इनकार कर दिया।

यह भी पढ़ें: तबलीगी जमात में शामिल यहां के दो लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि, मचा हड़कंप

Show More
नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned