प्रियंका गांधी पर मायावती ने दिया जोरदार बयान, सपा व भाजपा सरकार के लिए कहा यह

प्रियंका गांधी पर मायावती ने दिया जोरदार बयान, सपा व भाजपा सरकार के लिए कहा यह
Mayawati Priyanka

Abhishek Gupta | Publish: Aug, 13 2019 08:31:49 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोनभद्र कांड के पीड़ितों से किया हुआ वादा मंगलवार को निभाया व उनसे उकने गांव में जाकर मुलाकात की।

लखनऊ. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने सोनभद्र कांड (Sonbhadra Case) के पीड़ितों से किया हुआ वादा मंगलवार को निभाया व उनसे उकने गांव में जाकर मुलाकात की। लेकिन इस पर सियासत फिर से गर्म होती नजर आ रही है। बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने कांग्रेस (Congress) के साथ-साथ समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) की सरकार को कोसा है। उन्होंने सोशल मीडिया ट्विटर पर इसका जवाब दिया और कहा कि कांग्रेस व सपा को घड़ियाली आँसू नहीं बहाने चाहिए।

ये भी पढ़ें- इस राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए मायावती ने अब इस पार्टी से किया गठबंधन, 40 सीटों पर बात हुई तय

मायावती ने दिया बड़ा बयान-

मायावती ने कहा कि सोनभद्र काण्ड के पीड़ित आदिवासियों के मुताबिक पहले कांग्रेस व फिर सपा के भू-माफियाओं ने इनकी जमीन हड़प ली, जिसका विरोध करने पर, इनके कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया। अब इस घटना को लेकर सपा व कांग्रेस के नेताओं को अपने घड़ियाली आँसू बहाने की बजाय इन्हें वहाँ पीड़ित आदिवासियों को, उनकी जमीन वापिस दिलाने हेतु आगे आना चाहिये। तो यह सही होगा। उन्होंने अगले ट्वीट में कहा कि इसके साथ ही, प्रदेश की भाजपा सरकार को भी इस मामले में सख्त कदम उठाकर, वहाँ आदिवासियों को उनकी जमीन वापिस करानी चाहिये। बी.एस.पी. फिर से यह माँग करती है।

ये भी पढ़ें- राहुल गांधी का इस्तीफा हुआ मंजूर, यूपी राज्यसभा सांसद ने बताया - इन्हें बनाया गया कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष

mayawati

पहले भी गई थीं प्रियंका, लेकिन नहीं हो पाई थी मुलाकात-

आपको बता दें कि इससे पहले भी प्रियंका गांधी ने सोनभद्र में पीड़िता से मिलने का प्रयास किया था, लेकिन आचार संहिता लगी हाने के कारण उन्हें गांव जाने नहीं दिया गया, हालांकि प्रदेश भर में इसको लेकर हुए धरना प्रदर्शन के बाद पीड़ित परिवार उनसे मिलने पहुंचा था। बाद में समाजवादी पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने इसको लेकर भी धरन प्रदर्शन किया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned