कोरोना के आए 5124 मामले, लखनऊ सीएमओ भी हुए कोरोना संक्रमित

यूपी में मंगलवार को 5,124 नए कोरोना (Coronavirus in UP) मरीज सामने आए हैं। इसके साथ ही कुल मरीजों की संख्या 1,97,388 पहुंच गई है।

By: Abhishek Gupta

Published: 25 Aug 2020, 04:55 PM IST

लखनऊ. यूपी में मंगलवार को 5,124 नए कोरोना (Coronavirus in UP) मरीज सामने आए हैं। इसके साथ ही कुल मरीजों की संख्या 1,97,388 पहुंच गई है। कोरोना की चपेट में लखनऊ के सीएमओ (Lucknow CMO) आरपी सिंह (RP Singh) भी आ गए हैं, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। इनके अतिरिक्त एक्टिंग चीफ मेडिकल ऑफिसर अजय राजा भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। मंगलवार को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव (Corona Positive) आने के बाद लखनऊ के चीफ मेडिकल ऑफिसर आरपी सिंह होम आइसोलेशन में चले गए हैं। इसके साथ ही अजय राजा भी होम आइसोलेट हो गए हैं। दोनों का इलाज चल रहा है। दोनों ही स्वास्थ्य अधिकारियों में कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं, लेकिन रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। लखनऊ प्रशासन सीएमओ ऑफिस को सैनिटाइज कर रहा है। सीएमओ दफ्तर के सभी सदस्यों की कोरोना जांच की गई है। स्वास्थ्य शिक्षा विभाग के महानिदेशक, परिवार कल्याण महानिदेशक सहित कई आला अधिकारी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। ऐसे में अब राजधानी में लोगों की इलाज में लगे कोरोना वॉरियर्स भी दहशत दिखाई पड़ रही है।

ये भी पढ़ें- भाजपा नेता पर लगा गैंगरेप का आरोप, पीड़ित पक्ष ने कहा आरोपी को बचा रही, लड़की के पिता को फंसा रही पुलिस

लखनऊ में स्थिति चिंताजनक-

प्रदेश भर में सबसे ज्यादा चिंताजनक स्थिति लखनऊ में ही हैं। राजधानी में करीब 23000 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। मरने वालों की संख्या 291 पहुंच गई है। यूपी के स्वास्थ्य विभाग प्रमुख सचिव अमित मोहन ने बताया कि प्रदेश में एक्टिव केसों की कुल संख्या 49575 है। वहीं पूरी तरह ठीक होकर डिस्चार्ज किए जा चुके लोग 1,44,754 हैं। इस प्रकार रिकवरी का प्रतिशत बढ़कर 73.33 हो गया है। कोरोना से अभी तक कुल 3059 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि सोमवार को कल प्रदेश में 1,21,253 सैंपल्स की जांच की गई है। अब तक प्रदेश में कुल 47,96,488 सैंपल्स की जांच की जा चुकी है।

ये भी पढ़ें- ट्रिपल मर्डर से दहला लखनऊ, घर के अंदर खून से लथपथ मिली दंपत्ति की लाश, सपा ने दिया बयान

प्रदेश में चार गुना अधिक हो रही जांच-
उत्तर प्रदेश कोरोना जांच के मामले में मानक से काफी आगे निकल चुका है। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन ने मंगलवार को बताया कि प्रदेश की जनसंख्या के हिसाब से 32 हजार सैंपल की जांच होनी चाहिए, जबकि यहां करीब चार गुना अधिक जांच हो रही है। डब्ल्यूएचओ के मानक के अनुसार प्रति लाख जनसंख्या पर 14 टेस्ट प्रतिदिन किये जाने चाहिए, जिसके आधार पर प्रदेश की जनसंख्या के अनुसार 32 हजार टेस्ट प्रतिदिन बनते हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मानक से चार गुणा टेस्ट प्रतिदिन किये जा रहे हैं।

coronavirus
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned