प्याज और सब्जियों के बाद के अब चीनी पर पड़ेगी महंगाई की मार, कीमत जा सकती है 45 पार

  • अक्टूबर-सितंबर की पेराई के दौरान 53 फीसदी कम हुआ चीनी का प्रोडक्शन
  • पिछले साल समान अवधि में 40.69 लाख टन हुआ था चीनी का उत्पादन
  • इस साल समान अवधि में चीनी का उत्पादन 18.85 लाख टन हुआ
  • चालू सीजन में अब तक 15 लाख टन चीनी निर्यात के सौदे हो चुके

Saurabh Sharma

December, 0412:39 PM

नई दिल्ली। प्याज और बाकी सब्जियों के बाद अब जल्द ही चीनी पर महंगाई ( Inflation on sugar ) बढऩे वाली है। मुख्य कारण है चीनी का प्रोडक्शन ( sugar production ) कम होना। ताज्जुब की बात तो ये है कि मौजूदा सीजन के हिसाब से सरकार की ओर से जो चीनी के निर्यात सौदे किए हैं, उसके बाद देश में खपाने के लिए सिर्फ पौने चार लाख टन चीनी ही बचेगी। जिसके बाद आने वाले दिनों में देश में चीनी की किल्लत ( Shortage of Sugar ) बढ़ जाएगी और दाम आसमान छूने लगेंगे। जानकारों की मानें तो चीनी के दाम ( sugar price ) में 5 रुपए प्रति किलो के हिसाब से दाम में बढ़ोतरी होने के आसार है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today : पेट्रोल की कीमत में नहीं हुआ कोर्इ बदलाव, जानिए अपने शहर में दाम

पिछले साल के मुकाबले 50 फीसदी भी नहीं हुआ उत्पादन
पिछले साल के मुकाबले देश में इस सीजन में चीनी का उत्पादन 50 फीसदी भी नहीं हुआ है। महाराष्ट्र में गन्नों की पेराई देर से शुरू होने के कारण इस सीजन में 30 नवंबर तक चीनी का उत्पादन अब तक पिछले साल के मुकाबले 53 फीसदी कम हुआ है। निजी चीनी मिलों का संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, चालू गन्ना पेराई सत्र 2019-20 (अक्टूबर-सितंबर) के शुरुआती दो महीने के दौरान देशभर में चीनी का उत्पादन 18.85 लाख टन हुआ है, जबकि पिछले साल इसी अवधि के दौरान चीनी का उत्पादन 40.69 लाख टन हुआ था। इस प्रकार चालू सीजन में चीनी का उत्पादन पिछले साल के मुकाबले 53.46 फीसदी कम हुआ है।

यह भी पढ़ेंः- गिरावट के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 40,600 अंकों से नीचे, निफ्टी 11960 अंकों के करीब

सिर्फ चार लाख टन चीनी से चलेगा देश
ताज्जुब की बात तो ये है कि चालू सीजन में अब तक 15 लाख टन चीनी निर्यात के सौदे हो चुके हैं। भारत ईरान, श्रीलंका, अफगानिस्तान और अफ्रीकी देशों को चीनी निर्यात कर रहा है। अगर हम 15 लाख टन चीनी के निर्यात को आधार मानकर चलें तो देश में सिर्फ 3.85 लाख टन चीनी का स्टॉक रह जाएगा। नए साल के बाद फेस्टिव सीजन शुरू होने वाला है। जिसमें चीनी की डिमांड रहेगी। डिमांड रहने और स्टॉक कम रहने से दाम में इजाफा होने की उम्मीदें बढ़ जाएंगी।

यह भी पढ़ेंः- प्याज के जमाखोरों पर सरकार ने कसा शिकंजा, 50 फीसदी घटाई स्टॉक सीमा

5 रुपए प्रति किलो तक बढ़ सकते हैं चीनी के दाम
एंजेल ब्रोकिंग ( रिसर्च एंड कमोडिटी ) के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता के अनुसार मौजूदा सीजन में प्रोडक्शन काफी कम हुआ है। ऐसे में 15 लाख टन निर्यात होगा तो डॉमेस्टिक यूज के लिए चीनी का स्टॉक काफी कम रह जाएगी। जिसके बाद दाम बढ़ेंगे। उन्होंने आगे कहा इस कंडीशन में 5 रुपए प्रति किलो के हिसाब से रिटल में दाम बढ़ सकते हैं। आपको बता दें कि मौजूदा समय में रिटेल दुकानों में चीनी के दाम 38 रुपए से लेकर 40 रुपए प्रति किलो हैं। उद्योग संगठन ने बताया कि उत्तर भारत के राज्यों में चीनी का एक्स-मिल रेट पिछले कुछ महीनों से 3,250-3,300 रुपए प्रति क्विंटल और पश्चिमी राज्यों में 3,100-3,250 रुपए प्रति क्विंटल है।

यह भी पढ़ेंः- सरकार के इस नियम के लागू होने से पहले गोल्ड ज्वेलरी पर होगी डिस्काउंट की बरसात!

क्या कैंसल होंगे निर्यात सौदे?
कम प्रोडक्शन होने और निर्यात सौदे ज्यादा होने के बाद अब कई तरह के सवाल खड़े हो गए हैं। जानकारों की मानें तो सरकार ऐसी स्थिति में निर्यात सौदों को कम कर सकती है। या फिर कैंसल भी कर सकती है। अनुज गुप्ता के अनुसार जब भी इस तरह की परिस्थितियां सामने आती हैं तब सरकार सौदों को कैंसल करने का अधिकार भी अपने पास रखती है। या फिर सौदों को कम कर सकती है। जिस तरह से सरकार ने मौजूदा समय में प्याज को लेकर किया है। वहीं पुराना स्टॉक भी बाहर निकाला जाएगा। मौजूदा समय में सरकार सभी खाद्य पदार्थों की कीमतों को बैलेंस करने में जुटी हुई है। अगर चीनी की डिमांड बढ़ेगी तो सरकार से बाहर से चीनी को आयात भी कर सकती है।

यह भी पढ़ेंः- बिहार, गुजरात और और वेस्ट बंगाल करेंगे प्याज को दिल्ली में सस्ता

किस प्रदेश में कितना कम हुआ प्रोडक्शन
इस्मा से मिली जानकारी के अनुसार पिछले साल 30 नवंबर 2018 को देशभर में 418 चीनी मिलें चालू थीं जबकि इस साल 30 नवंबर तक महज 279 चीनी मिलों में चीनी का उत्पादन हुआ। देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में 30 नवंबर तक 105 चीनी मिलों में 9.14 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जबकि पिछले साल इसी अवधि में प्रदेश की 111 चीनी मिलों में 10.81 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था। महाराष्ट्र में इस साल 22 नवंबर को गन्नों की पेराई शुरू हुई और 30 नवंबर तक 43 चीनी मिलों में 67,000 टन चीनी का उत्पादन हुआ जबकि पिछले साल 30 नवंबर को प्रदेश में 175 चीनी मिलें चालू थीं और उत्पादन 18.89 लाख टन हो चुका था। कर्नाटक में 61 चीनी मिलों में इस साल नवंबर तक 5.21 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जबकि पिछले साल 63 चीनी मिलों ने इसी अवधि के दौरान 8.40 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned