कवयित्री ने नवमी के दिन किया सुसाइड, लॉकडाउन में हुई थी शादी

Highlights

- 29 जून 2020 को जौनपुर में हुई थी कवयित्री एकादशी त्रिपाठी की शादी

- परिजनों ने पति के खिलाफ थाने में दी तहरीद

- शादी के एक माह बाद से ही मायके में रह रही थी एकादशी

By: lokesh verma

Published: 25 Oct 2020, 04:47 PM IST

मेरठ. एक तरफ जहां महिलाओं को उत्पीड़न से बचाने के लिए योगी सरकार तमाम उपाय कर रही है। नवरात्रि में सरकार ने मिशन शक्ति अभियान की शुरुआत की है। इस बीच एक नव प्रतिभावान कवयित्री एकादशी त्रिपाठी ने गृह क्लेश के चलते सुसाइड कर लिया है। परिजनों का आरोप है कि पति के उत्पीड़न से परेशान होकर उनकी बेटी ने जान दी है। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। मृतक कवयित्री के परिजनों ने पति के खिलाफ सदर थाने में तहरीर दी है। एसओ सदर दिनेश चंद्र का कहना है कि मामले में जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें- बरेली केस: छात्रा बोली- मैं बालिग हूं, प्रेमी बिलाल के साथ जाऊंगी और मेडिकल भी नहीं कराऊंगी

दरअसल, रजबन बड़ा बाजार के रहने वाले रमाशंकर त्रिपाठी की कवयित्रीबेटी एकादशी त्रिपाठी की शादी लॉकडाउन के दौरान 29 जून 2020 को जौनपुर निवासी अभिषेक तिवारी से हुई थी। अभिषेक मुंबई में किसी एमएनसी कंपनी में नौकरी करता है। परिजनों का आरोप है कि शादी के बाद से अभिषेक ने अतिरिक्त दहेज की मांग शुरू कर दी थी। मांग पूरी नहीं होने पर बेटी के साथ मारपीट की गई। परिजनों ने अभिषेक के अन्य अन्य युवतियों से अवैध संबंध के आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि बेटी के विरोध करने पर जान से मारने की कोशिश भी की गई। इसलिए शादी के एक महीने बाद से ही वह मायके में रह रही थी और मानसिक रूप से काफी परेशान हो गई थी। जब परिजनों ने शनिवार सुबह कमरे का दरवाजा खोला तो बेटी फांसी के फंदे से लटकी थी। इसके बाद उन्होंने पुलिस को फोन कर घटना की जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।

कवियित्री एकादशी के भाई अंकित त्रिपाठी ने सदर थाने में अभिषेक के खिलाफ तहरीर दी है। एसओ दिनेश चंद्र ने बताया कि केस की जांच शुरू कर दी गई है। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। कवयित्री एकादशी की मौत के बाद मेरठ में सोशल मीडिया पर कवियों ने कमेंटस किए हैं। कवियों ने लिखा है कि मेरठ की बेटी की आत्महत्या की सूचना ने हिला दिया है। वह कहानीकार, कवयित्री, सहज, सरल, स्वभाव की थी।

यह भी पढ़ें- हाथरस कांड: राहुल गांधी ने दिया इतनी बड़ी धनराशि का चेक, बैंक में जमा करने से कतरा रहा पीड़ित परिवार

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned