अगर आप भी दुकान पर QR Code स्कैन कर पेमेंट करते हैं तो हो जाएं सावधान!

Highlights:

— मेरठ सहित पश्चिम उप्र के कई जनपदों में दर्जनों मामले आए सामने

— दुकानों पर लगे क्यूआर कोड के पोस्टर बदलकर साइबर अपराधी मालामाल

— क्यूआर स्कैन करने पर रुपये दुकानदार के खाते में न जाकर कहीं और गया

By: Rahul Chauhan

Published: 25 Feb 2021, 11:50 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। आनलाइन पेमेंट जो कि आज 95 प्रतिशत दुकानों पर किया जाता है। हर दुकानदार अब आनलाइन पेमेंट लेता है। इसके लिए ग्राहक को उसकी दुकान पर लगे क्यूआर कोड को स्कैन करना होता है और रुपया दुकानदार के खाते में पहुंच जाता है। लेकिन अब इसी क्यूआर कोड के जरिए पश्चिम उप्र के दुकानदार कंगाल हो रहे हैं। कारण कई दुकान पर लगे क्यूआर कोड के स्टीकर को साइबर ठगो ने हैक कर लिया है। जिसके चलते इस क्यूआर कोड के जरिए दुकानदारों के साथ ही ग्राहक भी साइबर फ्रॉड के शिकार हो रहे हैं। मेरठ, गजियाबाद और नोएडा सहित पश्चिम उप्र के कई जिलों में ऐसे मामले सामने आ चुके हैं।

यह भी पढ़ें: मॉर्निंग वॉक पर निकलने वाले लोगों को लूटने वाले बदमाश पुलिस एनकाउंटर में पस्त

ताजा मामला थाना सदर बाजार क्षेत्र का है। जहां दुकानदार विजय गुप्ता को डेढ़ हजार रुपये का भुगतान करने के लिए महिला ग्राहक ने उनकी दुकान पर लगा क्यूआर कोड स्कैन किया और पेमेंट कर दिया। हालांकि, पैसा उनके बैंक खाते में नहीं आया। पता चला कि क्यूआर कोड पोस्टर के ऊपर एक और पोस्टर चिपका हुआ था। कुछ ऐसा ही एक और मामला शास्त्रीनगर स्थित पिज्जा शाप के डब्बू के साथ हुआ। उनकी दुकान के बाहर भी ऑनलाइन पेमेंट के लिए क्यूआर कोड का पोस्टर चिपका है। लोग इसे स्कैन करके पेमेंट कर देते हैं। उनके यहां भी पिछले दिनों फ्रॉड हुआ तो पता चला कि किसी ने नया क्यूआर कोड का पोस्टर चिपका दिया है। ऐसे ही नोएडा में पिछले दिनों एक केस ऐसा ही आया था।

यह भी पढ़ें: थाने में 4 बच्चों के बाप के लिए भिड़ गई पत्नी और प्रेमिका, मामला बढ़ता देख पुलिस ने युवक को भेजा जेल

बता दें कि ऑनलाइन पेमेंट के लिए लोग अपनी दुकानों के बाहर क्यूआर कोड के पोस्टर चिपका देते हैं। इन्हें स्कैन करके ग्राहक पेमेंट कर देते हैं। जालसाज नजर बचते ही या रात में इन पोस्टरों के ऊपर नए क्यूआर कोड चिपका देते हैं। जब तक दुकानदार को पता चलता है, जब तक कई ग्राहकों का पैसा जालसाज के खाते में जा चुका होता है। एसपी क्राइम रामअर्ज ने बताया कि मामलों में जांच की तो पता चला कि मेवात गैंग ही यह फ्रॉड कर रहा है। हरियाणा के झुंझनू, नूह, मेवात और यूपी में मथुरा का गोवर्धन एरिया, खासकर देवसरस गांव से गैंग चल रहा है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned