माध्यमिक स्कूलों का फिर से बदला समय, सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब इन शर्तो के साथ संचालित होगी कक्षाएं

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के दौरान लगाए गए प्रतिबंध अब खत्म किए जा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के दौरान लगे लॉकडाउन में छात्र जहां घर पर ही आनलाइन पढाई करने को मजबूर थे वहीं अब स्कूल कालेज खुलने के बाद से उनमें चहल-पहल दिखाई दे रही है।

By: Nitish Pandey

Published: 11 Oct 2021, 01:31 PM IST

मेरठ. उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण लगातार घटने की ओर है। प्रदेश भर में कोरोना के सक्रिय मरीज गिने-चुने रह गए हैं। ऐसे में अब लॉकडाउन के दौरान लगाए प्रतिबंध धीरे-धीरे समाप्त किए जा रहे हैं। वहीं अब प्रदेश सरकार ने माध्यमिक स्कूलों के लिए एक बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत अब माध्यमिक स्कूलों में एक ही पाली में कक्षाएं संचालित की जाएंगी। ये वो स्कूल होंगे जहां पर छात्रों की संख्या इस समय काफी कम है।

यह भी पढ़ें : 55 वर्षीय दलित महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने सरकार को दी ये नसीहत

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन अनिवार्य

कोरोना का संक्रमण घटने के कारण सरकार ने यूपी बोर्ड, सीबीएसई व सीआइएससीई बोर्ड के माध्यमिक स्कूलों को यह छूट दी है। वहीं ऐसे स्कूल जहां पर छात्र संख्या ज्यादा है और कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कर कक्षाओं में विद्यार्थियों को बैठा पाना मुश्किल है, वहां पहले की तरह दो पालियों में ही कक्षाएं लगेंगी।

सरकार ने लिया बड़ा फैसला
मेरठ जिले के डीआईओएस गिरजेश चौधरी ने बताया कि प्रदेश की अपर मुख्य सचिव, माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला की ओर से यह आदेश जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक कक्षा नौ से लेकर कक्षा 12 तक के माध्यमिक स्कूलों में सुबह आठ बजे से दोपहर 12 बजे तक और दोपहर 12:30 बजे से शाम 4:30 बजे तक दो पालियों में कक्षाएं लगाई जा रही थी। अब ऐसे स्कूल जहां विद्यार्थियों की संख्या कम है वहां एक पाली में सुबह नौ बजे से लेकर दोपहर तीन बजे तक कक्षाएं लगेंगी।

शर्तो के साथ संचालित होगी कक्षाएं

उधर अधिक छात्र संख्या वाले स्कूलों में पहले की तरह ही पढ़ाई होगी। फिलहाल एक पाली में कक्षाएं संचालित करने वाले स्कूलों में छह घंटे पढ़ाई होगी। वहीं दो पाली वाले स्कूलों में चार-चार घंटे पढ़ाई होगी। स्कूलों के प्रधानाचार्य व प्रबंध समिति उपलब्ध संसाधनों को देखते हुए फैसला लेंगे। उन्होंने बताया कि आदेश सभी स्कूलों को भेज दिए गए हैं। स्कूलों को यह छूट दी गई है कि वे अपने यहां पर संचालित हो रही कक्षाओं में विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए शिफ्ट में कक्षाएं संचालित करें।

BY: KP Tripathi

यह भी पढ़ें : जाम के झाम अब नहीं होना पड़ेगा परेशान, सिर्फ 8 मिनट में पहुंच जाएंगे वैशाली से मोहननगर

Nitish Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned