scriptAIIMS Issues New Guideline for Black Fungus after Cases are increase in many states | कई राज्यों में बढ़े Black Fungus के मामले, AIIMS ने जारी की नई गाइडलाइन | Patrika News

कई राज्यों में बढ़े Black Fungus के मामले, AIIMS ने जारी की नई गाइडलाइन

locationनई दिल्लीPublished: May 20, 2021 12:33:28 pm

Black Fungus के मामलों ने बढ़ाई सरकार की चिंता, AIIMS ने जारी की अहम गाइडलाइन

AIIMS Issues new guidelines for Black Fungus
AIIMS Issues new guidelines for Black Fungus
नई दिल्ली। कोरोना संकट ( Coronavirus ) के बीच ब्लैक फंगस ( Black Fungus ) को लेकर भी सरकार की चिंता बढ़ती जा रही है। कई राज्यों में इसके लगातार मामले बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में ब्लैक फंगस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली स्थित एम्स ( AIIMS ) ने गाइडलाइन्स जारी की है। इस गाइडलाइन के जरिए ब्लैक फंगस का पता लगाना आसान हो जाएगा। आईए जानते हैं ब्लैक फंगस को लेकर क्या है एम्स की नई गाइडलाइन और कैसे करें इसकी पहचान और बचाव।
देश के कई हिस्सों से ब्लैक फंगस के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में इस बाबत अब लोगों की जान भी जा रही है। अकेले महाराष्ट्र में ब्लैक फंगस से 90 लोगों की मौत हो चुकी है।
यह भी पढ़ेँः राजधानी दिल्ली में बढ़ा ब्लैक फंगस का खौफ, एम्स और गंगाराम में मरीजों की भरमार

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ( AIIMS ) ने ब्लैक फंगस की पहचान के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। एम्स का कहना है कि ऐसे लोग जो अनियंत्रित डाइबिटिज के शिकार हैं और जो स्टेरॉयड लेते हैं उनके ब्लैक फंगस की चपेट में आने का खतरा ज्यादा है।
एम्स गाइडलाइन के मुताबिक ये हैं ब्लैक फंगस के लक्षण
- नाक से खून बहना, नाक में पपड़ी का जमना और नाक से काले रंग जैसा कुछ निकलना
- नाक का बंद होना, आंखों के पास सूजन, धुंधला दिखना, आंख और सिर में दर्द, धुंधला दिखना, आंखों का लाल होना
- चेहरे में झुनझुनी जैसा महसूस होना या चेहरे का सुन्न होना
- दांत का गिरना या मुंह के अंदर सूजना होना
ऐसे करें खुद को चेक
ब्लैक फंगस से आप संक्रमित हैं या नहीं इसके लिए प्रतिदिन खुद को चेक करें और अच्छी रोशनी में करें ताकि अगर पता चल सके कि आप सक्रमित हैं या नहीं।
यह भी पढ़ेंः क्या है बिहार सरकार का HIT Covid App, जिससे खुश होकर पीएम मोदी ने मांगी पूरी जानकारी

इन लोगों में ज्यादा खतरा
- जिन डायबिटीज मरीजों का शुगर लेवल कंट्रोल में नहीं है, या फिर उन्हें स्टेरॉयड या टोकिलीजुमैब दवाई का सेवन किया है
- कैंसर के मरीजों को इसका खतरा है
- स्टेरॉयड अधिक मात्रा में ले रहे मरीज को ज्यादा रिस्क
- कोरोना संक्रमितों या फिर जो वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं उन्हें खतरा है
ब्लैक फंगस का इलाज
ब्लैक फंगस के इलाज में केवल एम्फोटेरिसिन बी दवा ही काम आती है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

भारत सहित विश्व के 84 देशों के 50 करोड़ व्हाट्सऐप यूजर्स का डेटा लीक, ऑनलाइन बेच रहा एक हैकर'यू इडियट.. आपकी हैसियत क्या है', राहुल गांधी के सावरकर वाले बयान पर राज ठाकरे का कटाक्षUP Police का स्वैग, सॉल्व किया Elon Musk की समस्यासिर्फ 15 इंच जमीन के लिए चाची ने नाबालिग भतीजी को जिंदा जलायाएक दिसंबर से बदल जाएंगे ये नियम, घट सकता है जेब का बोझFIFA 2022 : मोरक्को से हारने पर बेल्जियम में दंगा, पथराव के दौरान दागे आंसू गैस के गोले, कई गिरफ्तारबाबा रामदेव के बयान पर भाजपा सांसद का ट्वीट, जाको प्रभु दारुण दुख देही, ताकि मत पहले हर लेहीराजस्थान: पार्टी में फूट का डर से बैकफुट पर कांग्रेस, गहलोत खेमा शांत, पायलट समर्थक मुखर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.