क्या 12 साल से अधिक आयुवर्ग को कोवैक्सीन का टीका लगाने की मिली अनुमति? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर चल रही खबरों में ये दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार ने 12 साल से अधिक आयु वर्ग के लिए कोवैक्सीन का टीका लगाने की अनुमति दे दी है।

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच टीकाकरण अभियान को तेज गति से आगे बढ़ाया जा रहा है। लेकिन कई राज्यों में पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने की वजह से टीकाकरण में रूकावटें आ रही हैं। केंद्र सरकार ने 1 मई से 18 साल से अधिक आयुवर्ग के लोगों के टीका लगाने की अभियान शुरू किया है। वहीं अब 12 साल से अधिक आयुवर्ग के लिए टीका लगाने की खबरें सामने आई है।

सोशल मीडिया पर चल रही खबरों में ये दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार ने 12 साल से अधिक आयु वर्ग के लिए कोवैक्सीन का टीका लगाने की अनुमति दे दी है। हालांकि, अब इन खबरों के बीच सरकार की ओर से स्पष्टीकरण आया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि अभी सिर्फ 18 साल से अधिक आयु वर्ग के लिए टीकाकरण की इजाजत दी गई है।

यह भी पढ़ें :- कोरोना के खिलाफ जंग में आएगी तेजी, मई-जून तक कोवैक्सीन की उत्पादन क्षमता होगी दोगुनी

सोशल मीडिया पर चल रही खबरों को लेकर प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) की ओर से फैक्ट चेक किया गया, जिसमें ये पाया गया है कि ये दावा फैक है। केंद्र सरकार ने सिर्फ 18+ के लिए टीकाककरण की इजाजत दी है। PIB ने ट्वीट करते हुए स्पष्ट किया कि यह दावा #Fake है और इसमें कोई सच्चाई नहीं है। सरकार ने ऐसे किसी टीकाकरण अभियान को मंजूरी नहीं दी है। हाल ही में केवल 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को ही कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए अनुमति दी गई है।

18 साल से ऊपर के सभी लोगों को मिला टीकाकरण की अनुमति

आपको बता दें कि देश में टीकाकरण अभियान को तेजी करने के लिए केंद्र सरकार ने अभी हाल ही 18 साल से अधिक आयु वर्ग के लोगों को टीकाकरण की अनुमति दी थी। सरकार ने 1 मई से 18 से 44 साल तक के आयुवर्ग के सभी लोगों को कोविड-19 वैक्सीनेशन की अनुमति दी थी।

यह भी पढ़ें :- आंध्र प्रदेश में कोविड-19 वैक्सीन की कमी से टीकाकरण प्रभावित, सरकार ने लोगों को पहला डोज लगाना किया बंद

वहीं डीसीजीआई (DGCI) ने इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए डीआरडीओ-विकसित एंटी-कोविड दवा को भी मंजूरी दी है। रक्षा मंत्रालय ने बीते शनिवार (8 मई, 2021) को मुंह के जरिए ली जाने वाली इस दवा को कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में इस्तेमाल करने की अनुमति दी थी। माना जा रहा है कि यह कोरोना संक्रमण को रोकने में कारगर साबित होगा।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned