इस सीजन में पहली बार दिल्ली की हवा पहुंची गंभीर की श्रेणी में, क्या है वजह

  • गुरुवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता ( air quality index ) इस वर्ष पहली बार 'गंभीर' श्रेणी में पहुंची।
  • बुधवार को हल्की राहत के बाद बिगड़ी हवा गुरुवार सुबह "बहुत खराब" श्रेणी में।
  • आने वाले दिनों में हवा की गति में तेजी आने से हालात बेहतर होने की संभावना।

नई दिल्ली। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के मुताबिक दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक ( air quality index ) गुरुवार को इस साल पहली बार "गंभीर" श्रेणी में पहुंच गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के मुताबिक दोपहर 1 बजे दिल्ली की औसत AQI रीडिंग 402 थी।

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए केंद्र सरकार ने उठाया बड़ा कदम, अध्यादेश जारी

यह नई रीडिंग बुधवार को कुछ वक्त की राहत के बाद सामने आई है। राष्ट्रीय राजधानी में हवा की गुणवत्ता इससे पहले गुरुवार को "बहुत खराब" श्रेणी में वापस आ गई थी, जब सीपीसीबी डेटा के अनुसार सुबह सात बजे एक्यूआई की रीडिंग 381 थी।

बुधवार को दिल्ली के वायु प्रदूषण के स्तर में मामूली सुधार हुआ था और पिछले दिनों शहर में तेज हवाओं के चलते छह दिनों में पहली बार इसकी AQI रीडिंग "खराब" श्रेणी में दर्ज की गई थी। हवा की गुणवत्ता 301-400 के बीच बहुत खराब श्रेणी में प्रवेश करती है और 400 से ज्यादा होने के बाद गंभीर श्रेणी को पार कर जाती है। दिल्ली का औसत 24 घंटे का AQI बुधवार को 297 था, जो मंगलवार के 312 से थोड़ा कम था।

Unlock 6.0: दिल्ली में क्यों बंद रहेंगे स्कूल, शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने दिया यह जवाब

23 अक्टूबर को राष्ट्रीय राजधानी के 35 मॉनिटरिंग स्टेशनों में से 10 ने हवा की गुणवत्ता "गंभीर" श्रेणी में गिरती हुई दिखाई थी। गुरुवार को हवा की गुणवत्ता में गिरावट एक दिन बाद सामने आई है जब राजधानी की औसत AQI सुधर कर 297 रीडिंग पर "खराब" श्रेणी में पहुंच गई थी। पिछले दिनों शहर में तेज हवाओं के कारण छह दिनों में प्रदूषण का स्तर पहली बार नीचे चला गया था।

क्या है इसका कारण

सरकार की वायु गुणवत्ता निगरानी और पूर्वानुमान सेवा सफ़र ने कहा, "अत्यधिक शांत सतह और बाउंड्री लेयर (सीमा सतह) की हवाओं के साथ-साथ रात की कम सीमा परत की ऊंचाई कम वेंटिलेशन के परिणामस्वरूप हुई, व्यावहारिक रूप से स्थिर फैलाव की स्थिति के परिणामस्वरूप मौजूदा हालात नहीं हुए हैं। सफ़र मॉडल में भविष्यवाणी की गई है कि आज (गुरुवार) AQI कम अवधि के लिए कुछ स्थानों पर 'गंभीर' श्रेणी के साथ 'बहुत खराब' श्रेणी के अंत में रहने की संभावना है। कल (शुक्रवार) को AQI में मामूली सुधार होने और 'बहुत खराब' श्रेणी में रहने की संभावना है। जबकि 31 अक्टूबर के लिए 'बहुत खराब' श्रेणी से 'खराब' श्रेणी के लिए महत्वपूर्ण सुधार का अनुमान लगाया गया है।"

कोरोना वायरस की दूसरी लहर करीब और एक महीने में बढ़ सकते हैं 26 लाख नए केसः केंद्रीय समिति की रिपोर्ट

आने वाले दिनों का हाल

आईएमडी के पर्यावरण निगरानी अनुसंधान केंद्र के प्रमुख वीके सोनी ने कहा कि हवा की गुणवत्ता गुरुवार को और बिगड़ने की संभावना थी। हालांकि, उन्होंने भविष्यवाणी की कि शुक्रवार और रविवार के बीच शहर की हवा में काफी सुधार होगा, हवा की गति शुक्रवार को 15 किमी प्रति घंटे छूने की संभावना है।

उन्होंने कहा, “एक गर्त बनी है, जिससे राजधानी में हवा की गति में एक महत्वपूर्ण सुधार होगा और इससे प्रदूषकों का बेहतर फैलाव होगा। रविवार तक पूर्वानुमान है कि हम हवा में सुधार देखेंगे।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned