केंद्र सरकार ने किसी शहर को अनलॉक करने के लिए बनाए ये नियम, जानिए क्या करना होगा और क्या नहीं

सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन में यह भी बताया गया है कि जिन शहरों को अनलॉक किया जाएगा, वहां के लोगों को इस बार सख्ती से कोरोना महामारी को लेकर बनाए गए सभी नियमों का पालन करना होगा, क्योंकि इस बार लापरवाही की तो तीसरी लहर और ज्यादा खतरनाक होगी।

 

नई दिल्ली।

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की दूसरी लहर अभी जारी है। हालांकि, पिछले कुछ दिनों से नए मामलों में आ रही कमी और बढ़ रही पॉजिटिविटी दर को देखते हुए सरकार धीरे-धीरे लॉकडाउन हटाने पर विचार कर रही है, मगर वह विशेषज्ञों की इस चेतावनी को भी नजरअंदाज नहीं करना चाहती, जिसके तहत तीसरी लहर आने की आशंका जताई गई है। ऐसे में सरकार इस बार अनलॉक को चरणबद्ध तरीके से तो करेगी, मगर सब कुछ प्लान करने और स्थितियों के नियंत्रण में होने के बाद। इसके लिए सरकार ने कुछ नियम तय किए हैं।

पॉजिटिविटी रेट पांच प्रतिशत या इससे कम होनी चाहिए
केंद्र सरकार की ओर से अनलॉक प्रक्रिया को लेकर जो जानकारी सामने आई है, उसके मुताबिक, कम से कम एक हफ्ते तक किसी शहर का पॉजिटिविटी रेट 5 प्रतिशत या इससे कम होना चाहिए। इसके अलावा उस शहर की कुल आबादी का करीब 70 प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन भी होने के बाद ही अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होगी। सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन में यह भी बताया गया है कि जिन शहरों को अनलॉक किया जाएगा, वहां के लोगों को इस बार सख्ती से कोरोना महामारी को लेकर बनाए गए सभी नियमों का पालन करना होगा, क्योंकि इस बार लापरवाही की तो तीसरी लहर और ज्यादा खतरनाक होगी। विशेषज्ञ इस बात की आशंका पहले ही जता चुके हैं कि तीसरी लहर में बच्चे और युवाओं पर खतरा अधिक है। सरकार ने यह बता दिया है कि पांबदियों में छूट उन्हीं शहरों को मिलेगी, जहां अनलॉक को लेकर बनाए गए मानक पूरे होंगे।

यह भी पढ़ें:- क्या शुरू हो गई कोरोना की तीसरी लहर! महाराष्ट्र के सिर्फ एक जिले में मिले 8 हजार संक्रमित बच्चे

टीकाकरण अभियान तेज करना होगा
वहीं, आईसीएमआर के महानिदेशक और भारत में कोरोना महामारी रोकथाम को लेकर बनी टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. बलराम भार्गव ने इस बात पर भी जोर दिया है कि प्रतिबंधों में धीरे-धीरे छूट दी जाएगी, जिससे कोरोना वायरस के संक्रमण के नए मामलों में तेजी नहीं आएगी। इसके लिए सभी जिलों में जिम्मेदार अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि वहां टीकाकरण अभियान में तेजी लाई जाए। उन्होंने यह भी बताया कि तीसरी लहर को रोकने या उसकी तीव्रता को कम करने के लिए पॉजिटिविटी रेट पांच प्रतिशत से कम रखनी होगी और इस मानक को पूरे करने वाले शहरों में ही पहले धीरे-धीरे अनलॉक की प्रक्रिया शुरू करनी होगी। पॉजिटिविटी रेट का यह आंकड़ा कम से कम एक हफ्ते तक जरूर होना चाहिए। हालांकि, अभी तक देशभर में 344 जिले ऐसे हैं, जहां की संक्रमण दर पांच प्रतिशत या इससे कम है।

यह भी पढ़ें:- दावा: सिर्फ ब्लैक, व्हाइट और यलो नहीं, 80 सेगमेंट के फंगस मानव शरीर में होते है मौजूद

क्या खत्म हो रही दूसरी लहर...
डॉक्टर भार्गव की मानें तो देश इस समय कोरोना की खतरनाक दूसरी लहर के बीच में है और अब यह धीरे-धीरे खत्म हो रही है। अगर आंकड़ों में समझें तो अप्रैल के पहले हफ्ते में भारत में 200 से भी कम जिले थे, जहां 10 प्रतिशत से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट थी। वहीं, अप्रैल के आखिरी हफ्ते तक 600 जिलों में 10 प्रतिशत का आंकड़ा पहुंच चुका था। आज की स्थिति में 239 जिले ऐसे हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट दस प्रतिशत से अधिक है। इसके अलावा, 145 जिलों में 5 प्रतिशत से दस प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट और करीब 350 जिलों में पांच प्रतिशत से कम पॉजिटिविटी रेट है।

COVID-19 virus
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned