scriptHow effective covishield and Covaxin are in protecting Corona | कोरोना से बचाने में कोविशील्ड और कोवैक्सीन कितनी असरदार, डेटा इकट्ठा कर रही सरकार | Patrika News

कोरोना से बचाने में कोविशील्ड और कोवैक्सीन कितनी असरदार, डेटा इकट्ठा कर रही सरकार

केंद्र सरकार एक कोविड वैक्सीन ट्रैकर प्लेटफॉर्म से डेटा एकत्र करने के बाद कोविशील्ड खुराक के बीच के अंतराल को बढ़ाने के अपने निर्णय के प्रभाव की समीक्षा करने की योजना बना रही है।

नई दिल्ली

Published: May 31, 2021 09:35:03 am

नई दिल्ली। महामारी कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए देशभर में टीकारण अभियान चलाया जा रहा है। कोरोना की दूसरी लहर के बीच केंद्र सरकार प्रस्तावित कोविड वैक्सीन ट्रैकर (Covid Vaccine Tracker) प्लेटफॉर्म से डेटा इकट्ठा करने के मंजूरी दे सकती है। कोविशील्ड (Covishield) खुराक के बीच के अंतराल को बढ़ाने के अपने फैसले की समीक्षा कर सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, सरकार को यह तय करने में भी मदद कर सकता है कि कोविशील्ड के लिए सिंगल खुराक के नियम को मंजूरी दी जाए या नहीं। बताया जा रहा है कि नए प्लेटफॉर्म के डेटा का अगस्त के करीब एनालिसिस किया जा सकता है।

covishield
covishield

यह भी पढ़ें

धीमी पड़ी कोरोना की दूसरी लहर: नए केस में भारी कमी, 3 हफ्ते बाद 50 प्रतिशत गिरावट, मौत का आंकड़ा भी घटा



अब तक 20.89 करोड़ वैक्सीन की दी गई खुराक
देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू किया गया। अब तक देश में 20.89 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। इनमें से करीब 90 प्रतिशत कोविशील्ड है। भारत अपने टीकाकरण अभियान में भारत बायोटेक के कोवैक्सिन का भी उपयोग कर रहा है। इसके अलावा रूस के स्पुतनिक वी भी लोगों को लगाई गई।

प्लेटफॉर्म पर तीन प्रकार का डेटा होगा स्थापित
नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (एनटीएजीआई) के तहत कोविड वर्किंग ग्रुप के अध्यक्ष डॉ एन के अरोड़ा ने एक इंटरव्यू में बताया कि एक प्लेटफॉर्म बनाया जा रहा है। इसके माध्यम से क्लीनिकल डेटा, वैक्सीन डेटा और समग्र रोग डेटा के तीन सेट का सामंजस्य स्थापित किया जाएगा। इसके बाद वैक्सीन वैक्सीन का असर, लोगों में हुए दोबारा संक्रमण और ट्रेंड्स देखेंगे। इस बीच लोगों में वैक्सीन की कवरेज भी बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें

Patrika Positive News: अस्पताल जाने के लिए नहीं था रास्ता, युवाओं ने बनाई सड़क

सिंगल डोज असर करता है या नहीं
डॉ. एन के अरोड़ा ने आगे बताया कि इन डेटा की मदद से यह अंदाजा लगाया जाएगा कि टीकाकरण के बाद लोगों में कितने समय तक बीमारी से बचाया जा सकता है। मार्च और अप्रैल में कोविड के टीकों के असर का अध्ययन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसका यह उद्देश्य है कि क्या सिंगल डोज असरदार है या नहीं। दूसरे शब्दों में कहे तो सिंगल वैक्सीन डोज कितना काम करता है।

जल्द लॉन्च होगा नया प्लेटफॉर्म
जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन भी वायरल वेक्टर प्लेटफॉर्म पर आधारित है। जबकि दो-खुराक वाली स्पुतनिक वैक्सीन भी इसी तकनीक के आधार पर सिंगल डोज के रूप में दी जा रही है। प्रभावकारिता रिपोर्ट के आधार पर दो-खुराक वाले टीके के रूप में कैलिब्रेट किए जाने से पहले, एस्ट्राजेनेका वैक्सीन सिंगल खुराक निर्माण के रूप में शुरू हुई थी। हालांकि अभी तक इस प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने की तारीख के बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है। माना जा रहा है कि जल्द ही इसे तैयार किया जाएगा। इसके बाद देशभर से डेटा एकत्र कर उसके उपयोग की समीक्षा की जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़पिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?Rakesh Jhunjhunwala Faith in Sati Dadi Temple: झुंझुनूं की राणी सती दादी मंदिर में थी राकेश झुनझुनवाला की गहरी आस्था'आजादी के अमृत महोत्सव' के तहत भारत-पाकिस्तान सीमावर्ती 30 गांवों के विकास के लिए शुरू हुई अनूठी पहलRajasthan: तीसरी कक्षा के दलित छात्र को निजी स्कूल के शिक्षक ने पानी का कंटेनर छूने को लेकर पीटा, मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.