scriptIndia build highest motorable road in laddakh | चीनी सीमा के नजदीक भारत ने लद्दाख में बनाई सबसे ऊंची सड़क, तोड़ा इस देश का रिकॉर्ड | Patrika News

चीनी सीमा के नजदीक भारत ने लद्दाख में बनाई सबसे ऊंची सड़क, तोड़ा इस देश का रिकॉर्ड

पूर्वी लद्दाख के उमलिंगला पास में बीआरओ यानी बॉर्डर रोड आर्गनाइजेशन की ओर से बनाए गए इस सडक़ के बाद भारत ने बोलिविया का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। अभी तक दुनिया में सबसे ऊंची सडक़ का रिकॉर्ड बोलिविया के नाम था।

 

नई दिल्ली

Published: August 05, 2021 12:13:49 pm

नई दिल्ली।

भारत ने लद्दाख में रिकॉर्ड ऊंचाई वाले क्षेत्र में सडक़ बनाकर दो तरफा महारत हासिल की है। पहला, युद्ध में चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सकेगा और दूसरा, दुनिया में सबसे ऊंची सडक़ बनाने में कामयाबी हासिल कर ली है। बीआरओ ने यह सडक़ पूर्वी लद्दाख के उमलिंगला पास में समुद्र तल से करीब 19 हजार 300 फीट की ऊंचाई पर बनाई है।
umingla_pass.jpg
रक्षा मंत्रालय के अनुसार, पूर्वी लद्दाख के उमलिंगला पास में बीआरओ यानी बॉर्डर रोड आर्गनाइजेशन की ओर से बनाए गए इस सडक़ के बाद भारत ने बोलिविया का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। अभी तक दुनिया में सबसे ऊंची सडक़ का रिकॉर्ड बोलिविया के नाम था। बोलिविया की उतुरुंसू ज्वालामुखी के नजदीक समुद्र तल से 18 हजार 953 फीट की ऊंचाई पर सडक़ का निर्माण कराया गया है।
यह भी पढ़ें
-

पिछड़ा वर्ग को सरकार दे सकती है सौगात, राज्यों में लगेगी आरक्षण बिल पर मुहर

पूर्वी लद्दाख में बीआरओ की यह सडक़ 52 किमी लंबी है और उमलिंगला पास के जरिए पूर्वी लद्दाख को चुमार सेक्टर से जोड़ती है। यह सडक़ स्थानीय लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगी, क्योंकि यह चिसुम्ले और देमचॉक को लेह से जोडऩे के लिए वैकल्पिक मार्ग देती है। वहीं, इस सडक़ के बनने से लद्दाख की सामाजिक और आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा। इसके अलावा, पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।
यह भी पढ़ें
-

Article 370 and 35A: कश्मीर में क्या है राजनीतिक दलों की राय, किसे मिल रहा लोगों का समर्थन, भाजपा को कितना फायदा हुआ

बीआरओ को इस सडक़ को बनाने में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। ठंड के मौसम में यहां तापमान माइनस 40 डिग्री से भी नीचे चला जाता है। साथ ही, सामान्य जगहों पर भी ऑक्सीजन का स्तर 50 प्रतिशत से कम हो जाता है। यह सडक़ नेपाल में माउंट एवरेस्ट के बेस कैंप से भी ऊंचाई पर है। नेपाल में माउंट एवरेस्ट का दक्षिण बेस कैंप 17 हजार 598 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। वहीं, सियाचिन ग्लेशियर से भी यह काफी ऊंचाई पर स्थित है। सियाचिन ग्लेशियर 17 हजार 700 फीट की ऊंचाई पर है। लेह में स्थित खारदुंगला पास की ऊंचाई भी 17 हजार 582 फीट है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.