जेपी नड्डा : J-K के नए नियमों से शरणार्थियों और कश्मीरी पंडितों को मिलेगा डोमिसाइल का अधिकार

  • कुछ लोग मूलभूत सुविधाओं और सियासी अधिकारों से रहे हैं वंचित
  • अब कश्मीरी पंडितों और शरणार्थियों को मिलेगा मूल निवास प्रमाण पत्र

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा ( BJP National President Jay Prakash Nadda ) ने जम्मू-कश्मीर के नए डोमिसाइल नियमों ( Domicile Policy ) की तारीफ की है। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश में कानूनी आधार पर भेदभाव समाप्त होगा। साथ ही कश्मीरी पंडितों ( Kashmiri Pandit) सहित सभी शरणार्थियों ( Refugees ) को उनका लंबित अधिकार ( Long Pending Right ) मिलेगा। ये लोग इन अधिकारों के लंबित होने से दशकों से कई मूलभूत सुविधाओं और राजनीतिक अधिकारों से वंचित रहे हैं।

दिल्ली से लौटे प्रवासी श्रमिकों ने बिहार सरकार की बढ़ाई चिंता, 4 में से एक कोरोना पॉजिटिव

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ( Jammu-Kashmir Administration ) की ओर से जारी नए डोमिसाइल नियमों से पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों, वाल्मीकि समाज के लोगों, समुदाय से बाहर शादी करने वाली महिलाओं और गैर पंजीकृत प्रवासी कश्मीरियों और विस्थापित लोगों को जल्द ही निवास प्रमाण पत्र ( Domicile Certificate ) मिल जाएगा।

21 साल बाद भारतीय तट से टकराएगा Super Cyclone, अमित शाह ने बंगाल और ओडिशा की मदद के लिए बढ़ाया हाथ

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि जम्मू और कश्मीर गैजेट में शामिल किए गए नए डोमिसाइल नियम स्वागत योग्य हैं। यह सभी शरणार्थियों को उनका लंबे समय से लंबित अधिकार देगा। भारत के दूसरे हिस्सों से जाकर दशकों से रह रहे एससी वर्कर्स और जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmiri ) से बाहर रह रहे कश्मीरी पंडितों के बच्चे डोमिसाइल के लिए दावा कर पाएंगे।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned