दिल्ली से लौटे प्रवासी श्रमिकों ने बिहार सरकार की बढ़ाई चिंता, 4 में से एक कोरोना पॉजिटिव

  • दिल्ली से बिहार लौटे प्रवासी मजदूर सबसे ज्यादा संक्रमित
  • देश की राजधानी से लौटे 26 फीसदी मजदूर पाए गए कोरोना पॉजिटिव
  • गुजरात और महाराष्ट्र से लौटे मजदूरों में संक्रमण का दर बहुत कम

नई दिल्ली। लॉकडाउन ( Lockdown) के तीसरे चरण तक कोरोना वायरस ( coronavirus ) संक्रमण के मामले में कम प्रभावित दिखने वाला बिहार अचानक कोविद-19 की गिरफ्त में आता जा रहा है। इस बात का खुलासा दिल्ली से लौटे प्रवासी श्रमिकों ( Migrant Laborers ) की कोरोना टेस्ट के बाद आई रिपोर्ट से हुआ है। बताया जा रहा है कि दिल्ली से बिहार लौटने वाले 4 प्रवासी श्रमिकों में से एक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

दिल्ली से आने वाले 26 फीसदी कामगार संक्रमित

दरअसल, दिल्ली से लौटे प्रवासी श्रमिकों से लिए गए 835 नमूनों में से 218 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। यानि दिल्ली से बिहार आने वाले प्रवासी मजदूरों में 26 फीसदी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। जबकि दिल्ली में यह दर 7 फीसदी है। इस रिपोर्ट ने सीएम नीतीश सरकार ( CM Nitish Kumar ) की चिंता बढ़ा दी है।

Uddhav Government : वेतन में कटौती के फैसले पर डॉक्टर बोले - अब काम पर असर पड़ेगा

सबसे अधिक महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूर बिहार पहुंचे हैं। महाराष्ट्र से बिहार पहुंचने वाले 2034 में 141 संक्रमित पाए गए हैं। इसके अलावा गुजरात से 2609 में से 139 लोग कोराना संक्रमित हैं। पश्चिम बंगाल से 373 में से 33, मध्य प्रदेश से आये 138 में से 5, तमिलनाडु से आये 114 में से 2, झारखंड से आए 133 में से 3 संक्रमित हैं। 1011 प्रवासी ऐसे हैं जिनके राज्य की जानकारी नहीं है। इनमें 23 लोग संक्रमित हैं।

बता दें कि 18 मई तक बिहार ने प्रवासी श्रमिकों के कुल 8,337 नमूनों का परीक्षण किया था। इनमें से लगभग 8 फीसदी मामले कोरोना संक्रमित पाए गए थे। जबकि कोरोना संक्रमण का राष्ट्रीय औसत लगभग 4% है।

बुलबुल के रास्ते आ रहा AMPHAN, बंगाल के दीघा और हटिया तट से टकराने के बाद मचाएगा तूफान

coronavirus
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned