नाबालिग से रेप के मामले की जांच करेंगे राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष

मामले की सूचना पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली थी और लड़की को भिवानी के बाल सेवा आश्रम में भेज दिया था। पुलिस ने अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है। इस मामले में भिवानी तथा दादरी के अधिकारियों को सम्मन दिया गया है।

नई दिल्ली। असम की एक नाबालिग से हरियाणा में हुए गैंगरेप एवं छेड़छाड़ मामले में राष्ट्रीय बाल अधिकार आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो जांच करेंगे। जांच के लिए वह 12 जून को भिवानी पहुंचेंगे। जांच के लिए हरियाणा बाल आयोग की अध्यक्ष ज्योति बैंदा भी उनके साथ रहेंगी।

यह भी पढें: हैदराबाद के कपल्स ने बच्चे के इलाज के लिए क्राउड फंडिंग के जरिए एकत्रित किए करोड़ों रुपए

उल्लेखनीय है कि अप्रैल माह में कुछ लोगों को एक नाबालिग कन्या दादरी के पास खेतों में रोते हुए मिली थी। इस पर पुलिस को जानकारी दी गई। पुलिस को नाबालिग ने बताया कि दादरी शहर की एक महिला ने दो लड़कों से रुपए लेकर उसे उनके साथ भेजा था। वे दोनों उसे लेकर भिवानी पहुंचे तथा उसके साथ दुष्कर्म किया। मामले की सूचना पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली थी और लड़की को भिवानी के बाल सेवा आश्रम में भेज दिया था। पुलिस ने अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है। इस मामले में भिवानी तथा दादरी के अधिकारियों को सम्मन दिया गया है।

यह भी पढें: दिल्ली में वाहनों की रफ्तार पर लगा ब्रेक, नई स्पीड लिमिट के नियम न मानने पर लगेगा जुर्माना

इस पूरे मामले पर हरियाणा बाल आयोग की अध्यक्ष ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रीय बाल आयोग को भेज दी है जिस पर राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष ने राज्य के पुलिस महानिरीक्षक को इस मामले पर कार्रवाई करने के आदेश दिए। हरियाणा बाल अधिकार संरक्षण आयोग के पूर्व सदस्य के अनुसार यह चाइल्ड ट्रेफिकिंग का केस है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने इस मामले में गैर जिम्मेदारी दिखाते हुए नाबालिग को संरक्षण देने की जगह उसे मेंटली टॉर्चर किया।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned