अमित शाह के एक्शन ISI में हड़कंप, कश्मीर में तैयार किया नया अलगाववादी ग्रुप

अमित शाह के एक्शन ISI में हड़कंप, कश्मीर में तैयार किया नया अलगाववादी ग्रुप

  • केंद्रीय गृह मंत्री का पदभार संभालते ही एक्टिव मोड में अमित शाह
  • गृह मंत्री अमित शाह की कार्रवाई से बौखलाई पाक ISI
  • कश्मीरी अलगाववादियों की मदद बनाया नया अलगाववादी ग्रुप

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री का पदभार संभालते ही एक्टिव मोड में दिख रहे अमित शाह की कार्रवाई से अब पाकिस्तान में खौफ है। गृह मंत्रालय के सूत्रों की मानें तो गृह मंत्री अमित शाह की कार्रवाई से बौखलाई पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) ने जम्मू-कश्मीर में एक नया अलगाववादी खड़ा किया है। पाकिस्तान ने यह ग्रुप कुछ कश्मीरी अलगाववादियों की मदद बनाया है।

नवजोत सिंह सिद्धू को राहुल और प्रियंका की हिदायत, अनावश्यक बयानबाजी से पार्टी का नुकसान

 

amit shah

बिहार: पटना में पत्नी और बच्चों की हत्या कर व्यवसायी ने की आत्महत्या

इरशाद अहमद मालिक बना ग्रुप का चीफ

सूत्रों के अनुसार इरशाद अहमद मालिक को इस अलगाववादी ग्रुप का चीफ बनाया गया है। इरशाद के बारे में जिक्र है कि वह खूंखार आतंकी संगठन लश्कर का आतंकी रह चुका है। यही वजह है कि इस ग्रुप से लश्कर के आतंकियों को भी जोड़ा गया है। जानकारी के अनुसार इस ग्रुप का मुख्य काम जम्मू और कश्मीर में सेना और सुरक्षा बलों के खिलाफ बड़े-बड़े प्रदर्शन करना होगा।

असदुद्दीन ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन की तबीयत बिगड़ी, सुधार के लिए अपील

 

amit shah

गर्मी ने तोड़ा रिकॉर्ड तो पसीना-पसीना हुई दिल्ली, अभी सूरज ऐसे ही कहर बरपाएगा

जीरो टॉलरेंस की नीति

गौरतलब है कि गृह मंत्री अमित शाह का कश्मीर पर खास फोकस है। उन्होंने आतंकवाद को लेकर भी जीरो टॉलरेंस की नीति की घोषणा की है। इसी क्रम में उन्होंने गृह मंत्रालय का चार्ज संभालते ही जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात कर घाटी के हालातों की जानकारी ली थी।

 

amit shah

मौसम विभाग की चेतावनी, पूर्वोत्तर राज्यों में भारी बारिश की संभावना, दिल्ली में गर्मी बरकरार

ऑपरेशन आल आउट

आपको बता दें मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर मसले को लेकर गंभीर है। यही वजह है कि इस साल सेना ने राज्य में आतंक के खिलाफ ऑपरेशन आल आउट चला रखा है। सुरक्षाबलों ने आतंक के खिलाफ कार्रवाई करते हुए इस साल 100 से अधिक आतंकियों को मार गिराया गया है। मारे गए आतंकियों में अधिकांश लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन के सदस्य शामिल हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned