scriptpro-Khalistan group Sikhs for Justice banned by modi Cabinet | सिख फॉर जस्टिस संगठन पर भारत ने लगाया प्रतिबंध, अलगाववादी एजेंडे को देता था बढ़ावा | Patrika News

सिख फॉर जस्टिस संगठन पर भारत ने लगाया प्रतिबंध, अलगाववादी एजेंडे को देता था बढ़ावा

  • Sikhs for Justice संगठन पर भारत ने लगाया बैन
  • भारत में Khalistan और अलगाववाद को देते थे बढ़ावा
  • SFJ ने रेफरेंडम 20-20 के जरिए पाकिस्तान से मांगी थी मदद

नई दिल्ली

Updated: July 10, 2019 10:14:08 pm

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने सिखों के लिए अलग देश की मांग करने वाले अलगाववादी संगठन सिख फॉर जस्टिस पर प्रतिबंध लगा दिया है। pro-Khalistan संगठन sikhs for justice को गैर कानूनी गतिविधि (निवारण) अधिनियम 1967 की धारा 3 (1) के तहत पांच साल के लिए प्रतिबंध किया गया है।

Sikhs for Justice

सिख समुदाय से सरकार ने की थी बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल बैठक में यह निर्णय लिया। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि सरकार ने इस बारे में सिख समुदाय की सभी प्रमुख संस्थाओं और संगठनों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद ये फैसला लिया है।

बंदूक लहराने वाले बीजेपी विधायक कुंवर प्रणव बोले- मेरे खिलाफ साजिश रची गई

अलगाववाद को बढ़ावा देता SFJ

खालिस्तान समर्थित सिख फॉर जस्टिस संगठन अलगाववाद एजेंडे को बढ़ावा देता है। इसे अमरीका, कनाड़ा और ब्रिटेन से कुछ चरमपंथी विदेशी सिख नागरिकों द्वारा चलाया जाता है। इस संगठन ने रेफरेंडम 20-20 के जरिए पाकिस्तान से मदद मांगी थी।

पंजाब सरकार ने फैसले को सराहा

सिख फॉर जस्टिस को बैन किए जाने के फैसले का पंजाब सरकार ने स्वागत किया है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि एसएफजे को गैरकानूनी करार देना एक अच्छी बात है। दरअसल, सिख फॉर जस्टिस संगठन अवैध तरीके से पंजाब में भी अपनी गतिविधियां चला रहा थे, जिसकी वजह से राज्य में हालात बिगड़ते रहे हैं।

अलगाववादी नेता गिलानी का वीडियो हुआ VIRAL, खुद को बताया पाकिस्तानी

पाकिस्तान में भी लग चुका है बैन

केंद्र की मोदी सरकार के अनुरोध पर पाकिस्तान ने भी इसी साल 15 अप्रैल को इस संगठन पर बैन लगा लगाया है। गुरपतवंत सिंह पन्नू और परमजीत सिंह इस संगठन के प्रमुख हैं। ये न्यूयॉर्क में रहकर इस संगठन को चलाते हैं।

खालिस्तान को मजबूत करना चाहता था सिख फॉर जस्टिस

बता दें कि सिख फॉर जस्टिस एक ऑनलाइन कैंपेन चला रहा था। जो रेफरेंडम 20-20 पर काम कर रहा था। ये लोग खालिस्तान को एकबार फिर मजबूत करने की नियत से पंजाब में माहौल खराब करने की फिराक में रहते थे।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तभारत ने ओडिशा तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक किया परीक्षणNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारअलवर में किसानों की जमीन नहीं होगी नीलाम, पत्रिका की खबर के बाद सरकार ने वापस लिए आदेश, किसानों ने जताया पत्रिका का आभारUttar Pradesh Assembly Elections 2022: भीषण शीतलहरी में पूर्वांचल हुआ गर्म, दो मुख्यमंत्रियों के चुनावी मैदान में उतरने की आस ने बढ़ाई सरगर्मीप्रियंका गांधी ने जारी की कांग्रेस की दूसरी लिस्ट, 41 उम्मीदवारों के नाम फाइनल, 16 महिलाओं को भी दिया टिकट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.