Maharashtra: मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने की तोड़फोड़, अडानी ग्रुप का साइनबोर्ड भी तोड़ा

मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Mumbai International Airport) पर शिवेसना कार्यकार्ताओं ने जमकर हंगामा किया और वहां पर लगे अडानी ग्रुप के साइनबोर्ड को भी नुकसान पहुंचा।

मुंबई। शिवेसना कार्यकार्ताओं ने सोमवार को मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Mumbai International Airport) पर जमकर हंगामा किया और फिर तोड़फोड़ की। इस दौरान एयरपोर्ट पर लगे अडानी ग्रुप के साइनबोर्ड को भी नुकसान पहुंचा।

पिछले दिनों ही मुंबई एयरपोर्ट का प्रबंधन बिजनेसमैन गौतम अडानी के अडानी ग्रुप (Adani Group) को मिला है, जिसके बाद से यहां पर अडानी ग्रुप के बड़े-बड़े साइनबोर्ड लगाए गए थे और अब अडानी नाम का बोर्ड भी लगाया जाना था, लेकिन उससे पहले ही शिवसेना कार्यकार्ताओं ने इसपर आपत्ति जताते हुए तोड़फोड़ की और जो भी बोर्ड लगाए गए हैं उसे हटा दिया।

यह भी पढ़ें :- अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स का हेडक्वार्टर मुंबई नहीं अहमदाबाद होगा, बड़े लेवल पर जिम्मेदारी में भी फेरबदल

शिवेसना का आरोप है कि मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (MIAL) का नाम पहले छत्रपति शिवाजी महाराज एयरपोर्ट के नाम से जाना जाता था, लेकिन अब यहां पर अडानी एयरपोर्ट का बोर्ड लगाया गया है। ऐसे में शिवाजी का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

अडानी ग्रुप को मिला है एयरपोर्ट प्रबंधन का जिम्मा

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले जुलाई में अडानी ग्रुप ने मुंबई एयरपोर्ट के प्रबंधन का काम संभाला है। अडानी समूह ने पिछले कुछ सालों में एविएशन सेक्टर में भारी निवेश किया है। इसके बाद अब तक कई एयरपोर्ट के प्रबंधन का काम अपने हाथों में लिया है। मुंबई एयरपोर्ट के प्रबंधन की कमान पहले जीवीके ग्रुप के पास था। अडाणी समूह ने पिछले साल अगस्त में ऐलान किया था कि वह मुंबई एयरपोर्ट में जीवीके समूह की हिस्सेदारी का अधिग्रहण करेगा।

यह भी पढ़ें :- गौतम अडाणी के हाथ में आई मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट की कमान, वैल्यूएशन 29000 करोड़ तक पहुंचाने का लक्ष्य

GVK एयरपोर्ट डेवलपर्स लिमिटेड के साथ सौदा पूरा होने के साथ ही MIAL में अडानी ग्रुप की हिस्सेदारी 74 फीसदी हो गई है। MIAL की बाकी 26 फीसदी हिस्सेदारी एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) के पास है। MIAL की स्थापना 2 मार्च 2006 को हुई थी। यह कंपनी छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट के विकास, निर्माण और परिचालन का काम करती है।

अडानी ग्रुप ने देश के अब कुल 6 एयरपोर्ट के प्रबंधन का संभाल लिया है। अडानी ग्रुप इन 6 एयरपोर्ट्स का विकास, प्रबंधन और परिचालन अगले 50 साल तक करेगा। इस तरह से अडानी ग्रुप एयरपोर्ट्स की संख्या के लिहाज से देश में सबसे बड़ा एयरपोर्ट ऑपरेटर बनने जा रहा है। विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर ये आरोप लगाती रही है कि देश की संस्थाओं को निजी हाथों में बेचा जा रहा है।

Adani Group
Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned