Coronavirus: शोधकर्ताओं को बड़ी सफलता, Covid से बचाने वाले Antibody की हुई पहचान, Vaccine बनाने में मिलेगी मदद

HIGHLIGHTS

  • वैज्ञानिकों ( Scientist ) ने मानव शरीर में पाए जाने वाले एक एंटीबॉडी ( Antibody ) की पहचान की है, जो कोरोना वायरस ( Coronavirus ) के लिए जिम्मेदार सार्स सीओवी-2 ( SARS Cov-2 ) संक्रमण से बचाव कर सकता है या उसे सीमित कर सकता है।
  • अनुसंधानकर्ताओं ने सार्स-सीओवी-2 स्पाइक प्रोटीन के खिलाफ प्रतिक्रिया करने वाले मानवीय मोनोक्लोनल एंटीबॉडी ( Human Monoclonal Antibodies ) का पता लगाया है।

नई दिल्ली। कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है। इस महामारी से बचाव के लिए दुनियाभर में वैक्सीन ( Corona Vaccine ) बनाने की दिशा में शोध किया जा रहा है और उम्मीद की जा रही है कि इस साल के आखिर या फिर 2021 के शुरूआती महीनों में आ सकती है।

इससे पहले वैज्ञानिकों को एक बड़ी सफलता मिली है। वैज्ञानिकों ने मानव शरीर में पाए जाने वाले एक एंटीबॉडी की पहचान की है, जो कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार सार्स सीओवी-2 ( SARS Cov-2 ) संक्रमण से बचाव कर सकता है या उसे सीमित कर सकता है।

Coronavirus: December तक आ सकती है China का Corona Vaccine, इतनी होगी कीमत

अमरीका के मैसाचुसेट्स मेडिकल स्कूल यूनिवर्सिटी ( UMMS ) के अनुसंधानकर्ताओं ने सार्स-सीओवी-2 स्पाइक प्रोटीन के खिलाफ प्रतिक्रिया करने वाले मानवीय मोनोक्लोनल एंटीबॉडी ( MAB ) का पता लगाया है। यह MAB श्वसन प्रणाली के म्यूकोसल (शरीर के आंतरिक अंगों को घेरे रहने वाली झिल्ली) उत्तकों पर ACE2 रिसेप्टर पर वायरस को बंधने से रोकता है।

16 साल पहले हुई इसकी उत्पत्ति

बता दें, मोनोक्लोनल एंटीबॉडी ( Human Monoclonal Antibodies ) वह एंटीबॉडी है, जो समान प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा बनाए जाते हैं और ये सभी कोशिकाएं विशिष्ट मूल कोशिका की क्लोन होती हैं। अध्ययन से पता चला है कि इस त्वरित एवं महत्त्वपूर्ण खोज की उत्पत्ति 16 वर्ष पूर्व हुई थी। यूएमएमएस के अनुसंधानकर्ताओं ने IGG मोनोक्लोनल एंटीबॉडी विकसित किया था, जो इसी तरह के वायरस, सार्स के खिलाफ प्रभावी था।

Russia ने Corona Vaccine का प्रोडक्शन किया शुरू! पहली खेप तैयार, वैज्ञानिकों ने सुरक्षा पर जताया संदेह

जब सार्स-सीओवी-2 वायरस की पहचान की गई और यह फैलना शुरू हुआ तो शोधकर्ताओं ने महसूस किया कि पहला एमएबी इस नए संक्रमण में भी मदद कर सकता है। अब शोधकर्ताओं ने पुराने सार्स कार्यक्रम को फिर से जीवित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

अब शोधकर्ता ये निर्धारित कर रहे हैं कि कोरोना वायरस में जो काम आया वह दूसरे के लिए भी काम करता है या नहीं। यह अध्ययन 'नेचर कम्युनिकेशन्स पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। बता दें कि पूरी दुनिया में कोरोना से अब तक 2.33 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 8 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned