Mike Pompeo India Visit: अमरीकी विदेश मंत्री की यात्रा से भारत को क्या हासिल होगा

Mike Pompeo India Visit: अमरीकी विदेश मंत्री की यात्रा से भारत को क्या हासिल होगा

Anil Kumar | Publish: Jun, 19 2019 07:35:07 AM (IST) | Updated: Jun, 19 2019 01:19:16 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • Us foreign secretary mike pompe चार देशों की यात्रा पर पहले 24 जून को भारत आएंगे
  • पोम्पियो का यह दौरा हिन्द-प्रशांत क्षेत्र के लिए काफी अहम माना जा रहा है

नई दिल्ली। अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ( Mike Pompeo ) 24 जून से 30 जून तक भारत , श्रीलंका ( srilanka ), जापान ( Japan ) और दक्षिण कोरिया ( South Korea ) के दौरे पर होंगे। पोम्पियो की यात्रा की शुरूआत 24 जून को भारत दौरे के साथ होगी। पोम्पियो का यह भारत दौरा कई मायनों में बहुत अहम है। भारत को इस यात्रा से बहुत उम्मीदें हैं।

यात्रा से पहले पाकिस्तान का दांव

पोम्पियो की भारत यात्रा से पहले पाकिस्तान ने दबाव की कूटनीतिक का प्रयास किया है। ब्रिटेन दौरे पर पहुंचे पाकिस्तान ( Pakistan ) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ( shah mahmood qureshi ) ने माइक पोम्पियो से फोन किया और द्विपक्षीय संबंधों के अलावा क्षेत्रीय शांति व सुरक्षा के मुद्दे को लेकर बातचीत की।

वित्तीय संकट से गुजर रहे पाकिस्तान को बाहर निकालने और वित्तीय कार्रवाई कार्य बल ( FATF ) की कार्ययोजना के अनुसार आतंक के खिलाफ कार्रवाई के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी दी। इस दौरान पोम्पियो ने अफगानिस्तान में शांति को लेकर भी बात की।

Pakistan minister Fawad Chaudhary को आया गुस्सा, पत्रकार को जड़ा थप्पड़

Nuclear weapon की होड़ में भारत से आगे निकला पाकिस्तान, रिपोर्ट में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

भारत-अमरीका विवाद को कम करने पर होगी नजर

लोकसभा चुनाव के बाद अमरीकी विदेश मंत्री माइको पोम्पियो का भारत दौरा दोनों देशों के लिए बहुत अहम है। क्योंकि हाल के कुछ वर्षों में भारत-अमरीका संबंध में गिरावट देखने को मिली है।

दोनों देशों के बीच व्यापार व रक्षा सामानों की खरीद को लेकर विवाद ज्यादा बढ़ा है। लिहाजा इस दौरे से यह दूरियां कम करने की कोशिश होगी। कुछ दिन पहले ही अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( President Donald Trump ) ने एक बड़ा फैसला लेते हुए भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंसेज ( GSP ) से बाहर कर दिया।

मौजूदा समय में GSP के तहत भारत जो भी उत्पा? अमरीका ?? को भेजता है वहां पर आयात शुल्क नहीं लगता है। अमरीका ने आरोप लगाया है कि भारत अपने यहां अमरीकी उत्पादों पर भारी आयात शुल्क लेता है, इससे अमरीका को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

इसके अलावे रूस के साथ रक्षा सौदों की खरीदी को लेकर भी अमरीका ( America ) नाराज है। इसमें रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदने पर अमरीका ने नाराजगी जाहिर की है।

अमरीका ने साफ कहा है कि यदि भारत s-400 को खरीदता है तो उसे कई अमरीकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। अमरीका ने भारत पर ईरान, वेनेजुएला से तेल आयात पर रोक लगा दी है।

नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप

पाकिस्तान आर्मी के खिलाफ बोलने की मिली सजा, ब्लॉगर बिलाल खान की हत्या

हिन्द-प्रशांत क्षेत्र के लिए अहम होगा माइक पोम्पियो का दौरा

ऐसा माना जा रहा है कि मौजूदा समय में हिन्द-प्रशांत क्षेत्र ( Indo-Pacific region ) में बढ़ते तनाव के बीच पोम्पियो का यह दौरा बहुत ही अहम होगा। इस क्षेत्र में भारत एक ताकत के रूप में उभर रहा है। ऐसे में अमरीका भारत के साथ मिलकर आगे बढ़ना चाहता है।

ऐसे में पोम्पियो का भारत के साथ-साथ श्रीलंका, दक्षिण कोरिया और जापान दौरान बहुत ही अहम साबित हो सकता है। अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में भारत के साथ मिलकर रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने पर जोर दिया है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned