मसूद अजहर मामला: सुरक्षा परिषद ने बैन पर जताई खुशी, वैश्विक आतंकी घोषित करने के फैसले का स्वागत

मसूद अजहर मामला: सुरक्षा परिषद ने बैन पर जताई खुशी, वैश्विक आतंकी घोषित करने के फैसले का स्वागत

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 21 2019 05:49:37 PM (IST) | Updated: May, 21 2019 07:19:03 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • 1 मई को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित हुआ था मसूद अजहर
  • आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना है मसूद अजहर
  • यूएनएससी की प्रतिबंध समिति ने मसूद अजहर पर लगाया था बैन

वाशिंगटन। खूंखार आतंकी मसूद अजहर के बैन होने से दुनिया के कई देशों ने राहत की सांस ली है। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को बीते एक मई को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया गया था। मंगलवार को सुरक्षा परिषद ने इस प्रस्ताव का अनुमोदन किया। संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति के फैसले का सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने स्वागत किया।

भारतीय मूल के जज ने दिया राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को झटका, अमरीकी कांग्रेस को देना होगा संपत्ति का ब्योरा

बैन पर सुरक्षा परिषद की मुहर

मसूद अजहर पर बैन के बाद पहली बार हुई सुरक्षा परिषद की पूर्ण समिति की बैठक में प्रतिबंध समिति के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के कदम को सुरक्षा परिषद के देशों ने खूब सराहा। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने एक सुर में इस तरह की कोशिशों का स्वागत किया और कहा कि ऐसे आतंकियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। सुरक्षा परिषद ने इसे अपने लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि मानते हुए कहा कि इस तरह के काम परिषद की वैधता पर मुहर लगाते हैं।

क्राइस्टचर्च मस्जिद हमला: आरोपी ब्रेंटन टैरेंट पर आतंकवाद के तहत चलेगा मुकदमा

क्या कहना है सुरक्षा परिषद का

अमरीका के स्थाई प्रतिनिधि जोनाथन कॉहेन ने परिषद की पूर्ण बैठक में बोलते हुए कहा कि अजहर को इस सूची में शामिल किया जाना आतंकवादियों के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समुदाय की प्रतिबद्धता को दिखाता है। उन्होंने कहा कि यह कृत्य यह जाहिर करता है कि आतंकियों के कामों के लिए दुनिया उनको कभी भी जवाबदेह ठहरा सकती है। आपको बता दें कि प्रतिबंध 1267 समिति द्वारा मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने के लिए अमरीका ने सबसे अधिक कोशिशें की थी। रूस के स्थाई उप प्रतिनिधि गेनाडी कुजमिन ने कहा कि 1267 समिति ने आतंकवाद के खिलाफ खुद को सुरक्षा परिषद के सबसे प्रभावी उपायों में से एक साबित किया है। वहीं जर्मनी के स्थाई प्रतिनिधि क्रिस्टोफ ह्यूसगेन ने बोलते हुए कहा कि मसूद अजहर को प्रतिबंध सूची में शामिल कराना एक बड़ी सफलता है।

 

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned