EPFO की नई पहल, WhatsApp मैसेज से अब दूर करेंगे PF से जुड़ी समस्या

  • EPFO खाताधारक के लिए शुरू हुई हेल्पलाइन सेवा
  • व्हाट्सऐप के माध्यम से हुआ 1,64,040 से ज्यादा शिकायतों और सवालों का समाधान

By: Pratibha Tripathi

Updated: 14 Oct 2020, 10:18 AM IST

नई दिल्ली। भविष्य निधि संगठन (EPFO) के खाताधारको की परेशानियों को देखते हुए एक नई सेवा की शुरूआत की गई है जिसके अंतर्गत अंशधारक अपनी शिकायतों का समाधान तुंरत ही पा सकते है। अब व्हाट्सऐप हेल्पलाइन सेवा की शुरूआत की गई है। ‘‘ईपीएफओ ने हेल्पलाइन-सह-शिकायत निवारण प्रणाली की शुरुआत कोविड-19 महामारी के दौरान हो रही परेशानियों को देखते हुए की है। जिसमें लोग बिना किसी व्यवधान के स्वतंत्र रूप से इस सेवा का लाभ उठा सकते है।

138 क्षेत्रीय कार्यालयों में हेल्पलाइन सेवाएं शुरू

अब जारी की गई इस नई सेवा से पीएफ अंशधारक व्यक्तिगत स्तर पर ईपीएफओ के क्षेत्रीय कार्यालयों के साथ सीधे संपर्क कर अपने समस्या बता सकते हैं। अब तक 138 क्षेत्रीय कार्यालयों में ईपीएफओ के सभी व्हाट्सऐप हेल्पलाइन सेवाएं शुरू हो चुकी हैं। अब कोई भी नागरिक जहां पर उनका पीएफ खाता है, इससे किसी भी तरह की समस्या का साधान करने के लिए क्षेत्रीय कार्यालय के हेल्पलाइन नंबर पर जाकर व्हाट्सऐप संदेश के माध्यम से, ईपीएफओ से जुड़ी शिकायत दर्ज कर सकता है।

यदि आप सके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो सभी क्षेत्रीय कार्यालयों के ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है ईपीएफओ के इस हेल्पलाइन का उद्देश्य, डिजिटल पहल को अपनाते हुए अंशधारकों को आत्मनिर्भर बनाना है व्हाट्सऐप पर पूछे गए प्रश्नों को हल करने के लिए प्रत्येक क्षेत्रीय कार्यालय में विशेषज्ञों की एक अलग टीम बनायी गयी है।

शुरू होने के साथ लोकप्रिय
यह हेल्पलाइन की सुविधाओं को देख लोग इसे काफी पसंद कर रहे है।अब तक ईपीएफओ ने व्हाट्सऐप के माध्यम से 1,64,040 से ज्यादा शिकायतों और सवालों का समाधान किया है। व्हाट्सऐप हेल्पलाइन नंबर जारी होने के बाद फेसबुक/ट्विटर जैसे सोशल मीडिया माध्यमों पर शिकायतों/प्रश्नों में 30 प्रतिशत की कमी आई है और ईपीएफआईजीएमएस पोर्टल (ईपीएफओ के ऑनलाइन शिकायत समाधान पोर्टल) पर 16 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned