मुरादाबाद में बिजली विभाग हुआ बेलगाम,जे ई का रिश्वत लेते वीडियो वायरल

जेई संतोष कुमार कनेक्शन के नाम पर घूस लेते कैमरे में कैद हो गए।

By: jai prakash

Published: 10 Feb 2018, 01:47 PM IST

मुरादाबाद: बिजली विभाग आए दिन किसी ना किसी कारण से सुर्खियों में बना रहता है। ताजा मामला मुरादाबाद के पाकबड़ा स्तिथ रतनपुर विद्युत उपकेंद्र का है। जहां तैनात जेई संतोष कुमार कनेक्शन के नाम पर घूस लेते कैमरे में कैद हो गए। जी हाँ पाकबड़ा के रतनपुर विद्युत उपकेंद्र पर तैनात जेई संतोष कुमार कनेक्शन लगाने के नाम पर पैसे लेने की शिकायतें कई दिनों से मिल रही थी। दावत के नाम पर रिश्वत लेते जे ई को उपभोक्ता ने कैमरे में कैद कर लिया और ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। वही विद्युत विभाग का कोई भी अधिकारी इस मामले में बोलने को तैयार नहीं है और एक दूसरे पर कार्यवाही की बात कहकर इस पूरे मामले से बचने की कोशिश कर रहा है।

 

यह भी देखें

अगर आप खाने पीने के शौकीन है और अच्छे सुपर मार्केट में शापिंग करने के शौकिन है तो जरा संभल कर अपने शौक को पूरा करे। कहीं स्वाद के चक्कर में आपकों अस्पताल न प.

यह भी पढ़ें अगले दो महीने में इस शहर से उड़ने लगेंगे हवाई जहाज,सालों की मेहनत रंग लाई

 

दरअसल एक व्यक्ति ने रूई की मशीन के लिए विधुत कनेक्शन के लिए अप्लाई किया था। जिसके सर्वे के नाम पर जेई संतोष कुमार अपने के साथी के साथ मौके पर जाते हैं। वहीँ वे दावत के नाम पर रिश्वत की डिमांड रखते हैं। और वे उपभोक्ता से पांच पांच सौ के दो नोट लेते कैमरे में कैद हो गए। ये वीडियो इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है। उधर जब इस मामले में अधीक्षण अभियंता संजय कुमार गर्ग से बात की गयी तो उन्होंने कहा की मामले की जांच की जाएगी। अगर वाकई जे ई दोषी है तो उस पर कार्यवाही की जाएगी।

 

 

यह भी पढ़ें कूड़े के ढेर से आ रही थी एेसी एेसी आवाजें, पास जाकर लोगों ने देखा तो उड़ गये होश

यह भी पढ़ें पत्रिका इम्पैक्ट: दसवीं में फेल और इंटर में पास मामला, स्कूल संचालक को हटाया,रद्द हो सकती है मान्यता

 

यहां बता दें की अभी बीती 19 जनवरी को मैनाठेर थाना क्षेत्र में भी एंटी करप्शन टीम ने एक जे ई को रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा था। बावजूद इसके विधुत कर्मियों और अधिकारीयों में कोई खौफ नहीं है। यही नहीं पिछले सप्ताह महज माचिस को लेकर विभागीय नोटिस ने भी सोशल मीडिया पर खूब किरकिरी विधुत विभाग की कराई थी। अब इसके बाद एक और जे ई का रिश्वत लेना। विभाग के जिम्मेदार अधिकारीयों पर सवाल खड़ा कर रहा है।

jai prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned