बड़ी खबर: लोकसभा चुनावों से पहले ही अखिलेश यादव के लिए बुरी खबर, यहां फूंक दिया गया इस उम्मीदवार का पुतला

सपा युवा कार्यकर्ताओं के एक गुट ने लोकसभा प्रत्याशी का विरोध करते हुए पुतला फूंक दिया

By: jai prakash

Published: 03 Jan 2019, 05:02 PM IST

मुरादाबाद: लोकसभा चुनावों से पहले जहां सभी पार्टियां अपने संगठन की मजबूती को लेकर मंथन कर रही हैं। वहीँ समजवादी पार्टी में अभी से गुटबाजी सामने आ रही है,जबकि अभी लोकसभा के लिए उम्मीदवार भी घोषित नहीं हो पाए हैं। जी हां कुछ ऐसा ही नजारा आजकल शहर में देखने को मिल रहा है। अभी पिछले दिनों युवा सम्मेलन में आज़म की तस्वीर और फिर उसके बाद कमाल अख्तर और फिर आज़म खान के पोस्टर पर स्याही का मुद्दा थमा भी नहीं था। आज सपा युवा कार्यकर्ताओं के एक गुट ने लोकसभा में बाहरी प्रत्याशी का विरोध करते हुए पुतला फूंक दिया,जिसके बाद अब सपा नेताओं को जबाब देते नहीं बन रहा है।

VIDEO: अधिकारी पर लगा बदसलूकी का आरोप तो भारी संख्या में पहुंच गए लोग, फिर जो हुआ...

फूंक दिया पुतला

सपा नेता बाबर खान का पुत्र अमान खान आज दोपहर अचानक जीआईसी चौराहे पर कार्यकर्ताओं के साथ एक पुतला लेकर पहुंच गया। जिसमें बाहरी प्रत्याशी हाय-हाय के नारे लगाए जा रहे थे। कुछ देर बाद उस पुतले को आग के हवाले कर दिया गया। युवा सपा नेता ने कहा कि उन्हें किसी भी कीमत पर बाहरी उम्मदीवार पसंद नहीं है। हमारा सन्देश पार्टी हाई कमान को यही देने का था इसलिए अभी सांकेतिक रूप से बाहरी प्रत्याशी का पुतला फूंक दिया।

एक पिता ने ही आठ दिन की अपनी बच्ची को इस तरह उतार दिया मौत के घाट, जानकर कांप जाएंगी रूह-देखें वीडियो

इनमें है अदावत

यहां बता दें कि पूर्व मंत्री और अखिलेश के ख़ास सिपहसालार कमाल अख्तर मुरादाबाद से लोकसभा टिकट मांग रहे हैं। लेकिन आज़म खान उनके खिलाफ हैं। इसलिए पार्टी का एक गुट बाहरी प्रत्याशी का दांव खेलकर उनकी मुखालफत में उतर आया है। इसकी झलक पिछले सप्ताह पार्टी के युवा सम्मेलन में भी देखने को मिली थी। जब मंडल स्तर के कार्यक्रम में से आज़म खान का फोटो तक नहीं था। उसके अगले दिन शहर में लगे कमाल अख्तर के पोस्टरों पर कालिख पोत दी गयी।

VIDEO: बजरंग दल का जिला संयोजक गिरफ्तार, बुलंदशहर हिंसा का था मुख्य आरोपी, देखें वीडियो

 

गुटबाजी से इंकार

फ़िलहाल इस मामले में स्थानीय सपा नेताओं ने चुप्पी साध ली है। क्यूंकि ये दो बड़े नेताओं का सीधा टकराव है। जबकि पार्टी नेता गुटबाजी से इनकार कर रहे हैं।

Show More
jai prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned