Maha Medical News: राज्य में इतने हजार छात्रों की नि:शुल्क हृदय शल्य चिकित्सा, तीन हजार से अधिक बच्चों की भी सर्जरी...

17 हजार छात्रों ( Students ) की नि:शुल्क हृदय शल्य चिकित्सा ( Cardiac Surgery ), तीन हजार से अधिक बच्चों की भी सर्जरी, 18 साल तक के बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण ( Cardiac Surgery ), राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ( National Child Health Program ) के तहत कार्यक्रम

मुंबई. राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत पिछले वर्ष के दौरान आंगनवाड़ी में 64 लाख 71 हजार बच्चों और 1 करोड़ 21 लाख स्कूली छात्रों की स्क्रीनिंग की गई है। इस योजना की शुरुआत से करीब 17 हजार छात्रों की नि:शुल्क हृदय शल्य चिकित्सा और तीन हजार से अधिक बच्चों की हृदय शल्य चिकित्सा हुई। इस योजना से स्कूली बच्चों को जीवनदान दिया गया। इसके तहत 0 से 18 वर्ष के लड़के-लड़कियों की स्वास्थ्य जांच की गई। वहीं जिन बच्चों में अतिरिक्त विशेष उपचार की आवश्यकता देखी गई, उन्हें महात्मा जोतिबा फुले स्वास्थ्य योजना, मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष, गैर सरकारी संगठन के माध्यम से भी उपचार दिया गया।

नि:शुल्क उपचार: राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम बन रहा संजीवनी, जिले में अब तक 35 बच्चों को मिल चुका है लाभ

 

हजारों बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण...
पिछले वर्ष 2018-19 में, आंगनवाड़ी के 64 लाख 71 हजार 267 (92 प्रतिशत) बच्चों और 1 करोड़ 21 लाख 24 हजार 428 (95 प्रतिशत) स्कूली छात्रों का परीक्षण हुआ, जिनमें से एक हजार 219 बच्चों की दिल की सर्जरी हुई, जबकि आठ हजार तीस बच्चों को अन्य सर्जरी से गुजरना पड़ा। वहीं जनवरी 2020 के अंत तक आंगनवाड़ी में 45 लाख 21 हजार 726 बच्चों का निरीक्षण किया गया और एक करोड़ एक लाख 66 हजार स्कूली छात्रों का परीक्षण हुआ। जनवरी से अब तक कम से कम एक हजार 846 बच्चों की हार्ट सर्जरी की गई, जबकि 13 हजार 370 बच्चे अन्य सर्जरी से गुजर चुके हैं।

एक छत के नीचे जांची विधार्थियों की सेहत, 50 से अधिक बड़े अस्पतालों में रैफर

Show More
Rohit Tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned