scriptAgneepath Scheme 3rd Petition In Supreme Court Challenging The Notification Centre Files Caveat | Agneepath Scheme के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई तीसरी याचिका, केंद्र सरकार भी पहुंची शीर्ष अदालत | Patrika News

Agneepath Scheme के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई तीसरी याचिका, केंद्र सरकार भी पहुंची शीर्ष अदालत

सेना में भर्ती की केंद्र सरकार की योजना अग्निपथ को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। सड़क से लेकर ये विवाद अब अदालत तक जा पहुंचा है। देश की सर्वोच्च अदालत में भी इस योजना के खिलाफ तीसरी याचिका दाखिल की गई है। वहीं केंद्र सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

नई दिल्ली

Published: June 21, 2022 11:57:51 am

सेना में भर्ती की नई योजना अग्निपथ पर विवाज बदस्तूर जारी है। एक तरफ छात्र तो दूसरी तरफ राजनीतिक दल इस योजना का जमकर विरोध कर रहे हैं। इस बीच देश की शीर्ष अदालत में भी ये मुद्दा पहुंच चुका है। सुप्रीम कोर्ट में अग्निपथ के खिलाफ तीसरी याचिका दाखिल की गई है। जबकि केंद्र सरकार भी इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट पहुंची है। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में अग्निपथ योजना पर रोक लगाने की मांग की गई है। उधर केंद्र सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में कैवियट दाखिल करके कहा गया है कि कोई भी निर्णय लेने से पहले केंद्र का पक्ष भी सुना जाए।
Agneepath Scheme 3rd Petition In Supreme Court Challenging The Notification Centre Files Caveat
Agneepath Scheme 3rd Petition In Supreme Court Challenging The Notification Centre Files Caveat
अग्निपथ स्कीम को लेकर देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन के बीच अब ये मामला सुप्रीम कोर्ट की दहलीज पर जा पहुंचा है। इस मामले में तीनों याचिकाएं तीन वकीलों ने दाखिल की हैं। पहली दो याचिकाएं एडवोकेट विशाल तिवारी और एमएल शर्मा ने दायर की थी। इसके बाद एडवोकेट हर्ष अजय सिंह ने भी एक याचिका देकर सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में दखल देने की गुजरिश की।

अधिवक्ता हर्ष की ओर से दाखिल याचिका में कहा कि, अग्निपथ योजना के तहत 4 साल के लिए युवाओं की सेना में भर्ती की जा रही है। इसके बाद 25 फीसदी अग्निवीरों को ही आगे स्थायी किया जाएगा।

यह भी पढ़ें

Agneepath Scheme: गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, अग्निवीरों को अर्धसैनिक बलों में 10 फीसदी आरक्षण, आयु सीमा में भी छूट




उन्होंने दलील दी है कि युवावस्था में चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर अग्निवीर आत्म-अनुशासन बनाए रखने के लिए न तो पेशेवर रूप से और न व्यक्तिगत रूप से पर्याप्त परिपक्व होंगे। यही वजह है कि, प्रशिक्षित अग्निवीरों के भटकने की बहुत संभावनाएं हैं।

पहले की याचिका में क्या कहा गया?
इससे पहले, मनोहर लाल शर्मा ने अग्निपथ योजना को चुनौती देने वाली अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि सरकार ने सेना में भर्ती की दशकों पुरानी नीति को संसद की अनुमति के बिना बदल दिया है, जो संवैधानिक प्रावधानों के खिलाफ है।

उन्होंने कहा है कि अधिकारियों के लिए सेना में स्थायी कमीशन होता है और वो 60 साल तक की उम्र में रिटायर हो सकते हैं।

शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) के तहत सेना में शामिल होने वालों के लिए 10/14 साल तक सर्विस का विकल्प होता है। इसके उलट सरकार अब युवाओं को कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर रखने लिए अग्निपथ स्कीम लेकर आई है। ऐसे में 14 जून के ऑर्डर और नोटिफिकेशन को खारिज करके गैर संवैधानिक घोषित किया जाए।

वहीं 18 जून को एडवोकेट विशाल तिवारी ने जनहित याचिका के जरिए अग्निपथ हिंसा मामले में एसआईटी जांच कराए की मांग की। उन्होंने अग्निपथ योजना पर सवाल उठाते हुए इसे परखने के लिए एक एक्सपर्ट कमिटी के गठन की भी मांग की थी।

केंद्र ने भी दाखिल की कैवियट
केंद्र सरकार की तरफ से भी कैवियट दाखिल की गई है। इसमें सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई गई है कि कोई भी निर्णय या फैसला लेने से पहले सरकार का पक्ष भी सुना जाए।

यह भी पढ़ें

'अग्निवीरों' को रक्षा मंत्रालय में भी मिलेगा 10% आरक्षण, जानिए सरकार ने अबतक क्या घोषणाएं कीं

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

IND vs ZIM: शिखर धवन और शुभमन गिल की शानदार बल्लेबाजी, भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हरायाकौन हैं IAS राजेश वर्मा, जिन्हें किया गया राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का सचिव नियुक्त?पटना मेट्रो रेल के भूमिगत कार्य का CM नीतीश कुमार ने किया उद्घाटन, तेजस्वी यादव भी रहे मौजूदMaharashtra Suspected Boat: रायगढ़ में मिली संदिग्ध नाव और 3 AK-47 किसकी? देवेंद्र फडणवीस ने किया बड़ा खुलासाBihar News: राजधानी पटना में फिर गोलीबारी, लूटपाट का विरोध करने पर फौजी की गोली मारकर हत्यादिल्ली हाईकोर्ट ने फ्लाइट में कृपाण की अनुमति देने पर केंद्र और DGCA को जारी किया नोटिसSSC Scam case: पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी 14 दिन की न्यायिक हिरासत पर भेजे गए, 31 अगस्त को अगली पेशीRohingya Row: अनुराग ठाकुर का AAP पर आरोप, राष्ट्र सुरक्षा से समझौता कर रही दिल्ली सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.