script जीतनराम मांझी ने साफ किया रुख, बताया बिहार में मचे घमासान में देंगे किसका साथ? | amid speculation in bihar jitan ram manjhi and his party ham will remain in nda and with narendra modi nitish kumar | Patrika News

जीतनराम मांझी ने साफ किया रुख, बताया बिहार में मचे घमासान में देंगे किसका साथ?

locationनई दिल्लीPublished: Jan 27, 2024 08:23:18 pm

Submitted by:

Paritosh Shahi

बिहार में जारी सियासी हलचल के बीच बिहार के पूर्व सीएम और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है।

ham_jitan_manjhi.jpg

एक बार फिर बिहार में राजनीतिक संकट जारी है। इंडिया गठबंधन में शामिल जदयू और राजद दोनों में ही उहापोह की स्थिति है। गुरुवार सुबह से ही खबरों में सिर्फ सूत्रों के माध्यम से अपडेट आ रहे हैं लेकिन अब तक स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है कि बिहार में सरकार रहेगी या बदलेगी। ऐसे कई संकेत मिलें है जिससे लगने लगा है कि नीतीश एक बार फिर लालू-तेजस्वी का साथ छोड़कर एनडीए में जाने वाले हैं। लालू और तेजस्वी भी हार मानने के मूड में नहीं हैं। मौजूदा परिस्थिति को देखते हुए हर दल अपनी ओर से जोड़-तोड़ में लग गया है। इसी बीच बड़ी खबर हम पार्टी से आई है।

 

'हम' की बैठक खत्म

मौजूदा हालात को देखते हुए जीतन राम मांझी की पार्टी 'हम' ने शनिवार को विधायक दल की बैठक की। इस बैठक में चर्चा हुई की पार्टी का आगे क्या रुख होगा और पार्टी किस गठबंधन के साथ जाएगी क्योंकि दोनों तरफ से ऑफर मिल रहा है। बैठक समाप्त होने के बाद मांझी ने दो टूक कहा कि जहां पीएम मोदी, वहां 'हम'। राजनीतिक जानकारों की मानें तो उनके इस कथन से तेजस्वी यादव और राहुल गांधी को बड़ा झटका लगा है।

फ़िलहाल तो बिहार में पल-पल सियासी समीकरण बदल रहे हैं। नंबर गेम में दोनों गठबंधन अपने को मजबूत करने का प्रयास कर रही है इसी बीच सामने आया था कि, जीतन राम मांझी से कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने फोन पर बात की और उन्हें इंडिया गठबंधन में आने का न्योता दिया। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस बाबत छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम भूपेश बघेल जीतन मांझी से मुलाकात कर सकते हैं।

राजद ने भी साफ किया रुख

राजद के सांसद मनोज कुमार झा ने शनिवार को पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में कहा कि जिस सरकार को लालू प्रसाद, नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव ने सृजित किया हो उसे हम कैसे गिरा सकते हैं। हम उस सरकार को, जिसने रोजगार दिए, अस्पतालों की कायापलट की, उसे हम गिराने के लिए सोच ही नहीं सकते।

ट्रेंडिंग वीडियो