scriptChandrayaan-4 : भारत चंद्रमा से चट्टानें लाने के लिए 2028 में चंद्रयान-4 लॉन्च करेगा | Chandrayaan-4: India to launch Chandrayaan-4 in 2028 to bring rocks from the Moon | Patrika News

Chandrayaan-4 : भारत चंद्रमा से चट्टानें लाने के लिए 2028 में चंद्रयान-4 लॉन्च करेगा

locationनई दिल्लीPublished: Feb 28, 2024 09:02:19 pm

Submitted by:

Shaitan Prajapat

Chandrayaan-4 : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अपनी अगली चंद्र यात्रा चंद्रयान-4 की योजना है। इसरो के डॉ. नीलेश देसाई ने पुष्टि करते हुए कहा कि चंद्रयान-4 को अगले चार साल 2028 के करीब लॉन्च किया जाएगा।

chandrayaan-4.jpg

Chandrayaan-4 : चंद्रयान-3 मिशन की ऐतिहासिक सफलता के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अपनी अगली चंद्र यात्रा Chandrayaan-4 के लिए तैयारी कर रहा है। संभावना जताई जा रही है कि चंद्रयान-4 को अगले चार साल 2028 के करीब लॉन्च किया जाएगा। इसरो के अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (एसएसी) के डॉ. नीलेश देसाई ने पुष्टि करते हुए कहा कि अगला मिशन चंद्रयान-4 साल 2028 में लॉन्च होगा। इसे LUPEX मिशन भी कहा जाता है।

चंद्रमा से सैंपल लेकर आएगा चंद्रयान-4

चंद्रयान-4 का लक्ष्य अधिक जटिल उद्देश्यों का प्रयास करते हुए हाल ही में संपन्न चंद्रयान-3 मिशन की उपलब्धियों को आगे बढ़ाना है। सफल होने पर चंद्रयान-4 भारत को चंद्रमा की सतह से नमूने वापस लाने वाला चौथा देश बना देगा।

2040 तक चंद्रमा पर आदमी भेजने का प्लान

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी भी 2040 तक भारतीयों को चंद्रमा पर भेजने की योजना बना रही है। एजेंसी के दीर्घकालिक दृष्टिकोण को रेखांकित करते हुए नीलेश देसाई ने कहा, हमारे पास चंद्रमा पर एक आदमी को भेजने के लिए अगले 15 साल हैं।

दक्षिणी ध्रुव से एकत्र करना है नमूने

मिशन का इरादा दक्षिणी ध्रुव के पास उतरना और चट्टान के नमूने एकत्र करना है जिन्हें विश्लेषण के लिए पृथ्वी पर वापस लाया जाएगा। यह डेटा पानी जैसे चंद्र संसाधनों पर अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकता है जो भविष्य में मानव उपनिवेशीकरण का समर्थन कर सकता है।

350 किलो का रोवर होगा तैनात

चंद्रयान-4 अपने पूर्ववर्ती की तुलना में बड़ी दूरी तय करने में सक्षम 350 किलोग्राम का रोवर तैनात करेगा। लैंडर चंद्र क्रेटर के खतरनाक किनारों को छूने की मुश्किल चाल को अंजाम देगा जो अब तक अज्ञात रहे हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो