scriptchildren are becoming victims of pneumonia on a large scale in China | किस रहस्यमई बिमारी के शिकार हो रहे चीनी बच्चेे, क्या भारत में भी दिखेगा असर | Patrika News

किस रहस्यमई बिमारी के शिकार हो रहे चीनी बच्चेे, क्या भारत में भी दिखेगा असर

Published: Nov 24, 2023 08:38:24 pm

Submitted by:

Prashant Tiwari

Children are becoming victims of pneumonia: उत्‍तरी चीन के बच्‍चों में निमोनिया की बीमारी तेजी से फैल रही है। हालात यह है कि एक दिन में अचानक सात हजार केस सामने आने के बाद से फिर से कोरोना की यादें ताजा हो गई है।

 children are becoming victims of pneumonia on a large scale in China


दुनिया अभी कोरोना महामारी से ठीक से उबर भी नहीं पाई थी उससे पहले चीन में बड़े स्तर पर फैलती बीमारी ने लोगों को एक बार फिर से चिंता में डाल दिया है। दरअसल, उत्‍तरी चीन के बच्‍चों में निमोनिया की बीमारी तेजी से फैल रही है। हालात यह है कि एक दिन में अचानक सात हजार केस सामने आने के बाद से फिर से कोरोना की यादें ताजा हो गई है। बता दें कि चीन से पैदा हुए कोरोना ने भारत समेत विश्व के लगभग सभी देशों को अपनी चपेट में ले लिया था, जिससे बड़े स्तर पर लोगों की मौत हुई थी।

WHO चीन पर बना रहा दबाव

अक्टूबर के मध्य से, चीन में “इन्फ्लूएंजा जैसी बीमारी” के हजारों मामले सामने आए हैं, जिससे बीजिंग और लियाओनिंग प्रांत के बाल चिकित्सा अस्पतालों में भारी भीड़ उमड़ पड़ी है। WHO चीन पर इसके प्रकोप पर अधिक विवरण प्रदान करने और अप्रत्याशित वृद्धि के परिणामस्वरूप बेहतर प्रतिक्रिया तंत्र की तलाश करने के लिए दबाव डाल रहा है।
एक दिन में आए 7000 मरीज

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (NNC) ने 13 नवंबर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सांस लेने संबंधी बीमारियों, विशेष रूप से इन्फ्लूएंजा, माइकोप्लाज्मा निमोनिया, छोटे बच्चों को प्रभावित करने वाला एक सामान्य जीवाणु संक्रमण और श्वसन सिंकाइटियल वायरस (RSV) में वृद्धि की सूचना दी. इस सप्ताह, सरकार के आधीन चाइना नेशनल रेडियो ने कहा कि बीजिंग चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल में प्रतिदिन औसतन 7,000 मरीज भर्ती होते हैं, जो अस्पताल की क्षमता से अधिक है।

बच्चों को स्कूल न भेजने की सलाह

एक ताइवानी समाचार वेबसाइट एफटीवी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, बच्चों में तेज बुखार और फेफड़ों में सूजन के लक्षण थे लेकिन खांसी नहीं थी। कहा गया कि ‘लियाओनिंग प्रांत में भी स्थिति गंभीर है। डालियान चिल्ड्रेन हॉस्पिटल की लॉबी अंतःशिरा ड्रिप प्राप्त करने वाले बीमार बच्चों से भरी हुई है।

पारंपरिक चीनी चिकित्सा अस्पतालों और केंद्रीय अस्पतालों में भी मरीजों की कतारें हैं। वहीं, अल जजीरा की रिपोर्ट के अनुसार, बीजिंग के स्कूल भी बच्‍चों की अनुपस्थिति दर दर काफी अधिक हैं। बेहद बुरी स्थिति में, यदि कोई छात्र बीमार है तो कम से कम एक सप्ताह के लिए पढ़ाई रद्द भी की जा रही है। माता-पिता को अतिरिक्त सावधानी बरतने की सलाह दी जा रही है। वहीं, भारत में भी इस बीमारी को लेकर केंद्र सरकार ने एडवाइजरी जारी की है।

ट्रेंडिंग वीडियो