scriptRomeo Helicopter: लक्षद्वीप में 5 मार्च को होगा नौसैनिक अड्डा का उद्घाटन, INS जटायु पर तैनात किए जाएंगे रोमियो हेलिकॉप्टर | Indian Navy Naval Base to be inaugurated in Lakshadweep on March 5, Romeo helicopters to be deployed on INS Jatayu For China And Maldives | Patrika News

Romeo Helicopter: लक्षद्वीप में 5 मार्च को होगा नौसैनिक अड्डा का उद्घाटन, INS जटायु पर तैनात किए जाएंगे रोमियो हेलिकॉप्टर

locationनई दिल्लीPublished: Mar 01, 2024 09:15:00 pm

Submitted by:

Anand Mani Tripathi

Romeo Helicopter INS Jatayu For China: भारतीय नौ सेना (Indian Navy) ने हिंद महासागर में चीन(China) और मालदीव कि किसी भी गुस्ताखी का जवाब देने की तैयारी कर ली है। 5 मार्च को लक्षद्वीप (Lakshdeep) में नया नौसैनिक अड्डा INS जटायु शुरू होने जा रहा है।

Romeo Helicopter On INS Jatayu Naval Base In Lakshadweep

Romeo Helicopter on INS Jatayu For China And Maldives : भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर में अब अपना वर्चस्व स्थापित करने जा रहा है। लक्षद्वीप के मिनिकॉय द्वीप पर नया नौसैनिक अड्डा INS जटायु स्थापित करने जा रहा है। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 5 मार्च को इसे भारतीय नौ सेना को अधिकारिक रूप से सौंप सकते हैं। हिंद महासागर में भारत यहां से चीन को सीधे चुनौती देगा।

INS जटायु पर चार MH-60 रोमियो बहुउद्देशीय हेलीकॉप्टरों की तैनाती की जाएगी। यह सैन्य अड्डा अंडमान में बनाए गए INS बाज के बराबर होगा। इसके साथ ही अगाट्टी द्वीप में हवाईपट्टी को भी विकसित किया जाएगा। भारतीय वायु सेना यहां से लड़ाकू विमानों का संचालन करेगी।

मालदीव विवाद के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 4 जनवरी को लक्षद्वीप की यात्रा की थी। तस्वीरों को साझा करते हुए यहां पर्यटकों को आने के लिए न्योता दिया था। इसके बाद मालदीव के मंत्रियों ने अर्मादित टिप्पणी की। इससे दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर तक विवाद बढ़ गया था।

 

ins_vikramaditya_along_with_ins_vikrant.png
भारतीय नौ सेना संयुक्त कमांडर सम्मेलन युद्धपोत INS विक्रमादित्य और INS विक्रांत पर होगी। यह युद्धपोत गोवा से चलकर कर्नाटक कारवार और फिर वहां से मिनिकॉय द्वीप होते हुए कोच्चि पहुंचेंगे। इस दौरान राजनाथ सिंह भी इनमें से किसी एक पर सवार होकर लक्षद्वीप जाएंगे। इस दौरान उनके साथ 15 और युद्धक जहाज भी होंगे। पहली बार दोनों युद्धपोत का संचालन एक साथ किया जाएगा।
navy
लक्षद्वीप और मिनिकॉय द्वीप 9 डिग्री चैनल पर स्थित हैं। यहां से दक्षिण-पूर्वी एशिया और उत्तरी एशिया के बीच अरबों रुपए का व्यापार होता है। इतना ही नहीं लक्षद्वीप की भौगोलिक स्थिति हिंद महासागर पर नजर रखने के लिए काफी अहम है। इससे सैन्य अडडे से चीन को सीधी चुनौती मिलेगी। मालदीव में चीनी दखल के बाद इसकी सक्रियता काफी अहम होने जा रही है।
romeo_helicopter_on_ins_jatayu_naval_base_in_lakshadweep_kochi.png

 

 

लक्षद्वीप 36 छोटे-छोटे द्वीपों का समूह है। यह केरल के कोच्चि से करीब 440 किलोमीटर दूर स्थित है। रणनीतिक नजरिए से भी काफी इन द्वीपों पर कुल आबादी 64,000 है। इसमें से भी 95 प्रतिशत मुस्लिम हैं। यहां जाने के लिए किसी भी नागरिक का परमिट लेना पड़ता है। भारतीय सैन्य बलों से जुड़े लोगों को यह छूट है।

 

 

pm_modi_romeo_helicopter_on_ins_jatayu_naval_base_in_lakshadweep_.png

ट्रेंडिंग वीडियो