scriptSonia Gandhi Go To Rajayasabha From Rajasthan Congress Raebareli Seat Also In Danger | राजस्थान से राज्यसभा जा सकती हैं सोनिया गांधी,कांग्रेस की रायबरेली सीट भी खतरे में आई | Patrika News

राजस्थान से राज्यसभा जा सकती हैं सोनिया गांधी,कांग्रेस की रायबरेली सीट भी खतरे में आई

locationनई दिल्लीPublished: Feb 04, 2024 05:52:11 pm

Submitted by:

Anand Mani Tripathi

Rajya Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव से पहले राज्यसभा का दंगल जारी है। कांग्रेस हो या भाजपा दोनों की पार्टियां राज्यसभा की सीट से सियासी समीकरण साध रही हैं।

sonia_gandhi_go_to_rajayasabha_from_rajasthan_congress_raebareli_seat_also_in_danger.png

Rajya Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव से पहले राज्यसभा का दंगल जारी है। कांग्रेस हो या भाजपा दोनों की पार्टियां राज्यसभा की सीट से सियासी समीकरण साध रही हैं। कांग्रेस में सोनिया गांधी को लेकर हलचल तेज है। सोनिया गांधी का स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता है। ऐसे में लोकसभा चुनाव लड़वाने के बजाय राजस्थान से राज्यसभा भेजने की तैयारी है। अभी यहां से पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सदस्य थे। उन्हीं की जगह सोनिया गांधी को भेजा जा सकता है।
कांग्रेस पार्टी में फिर से खींचतान न मचे ऐसे में राजस्थान की छह सीटों पर स्थानीयों को तवज्जों नहीं देने की सोच रही है। अभी भी राजस्थान में नीरज डांगी को छोड़कर राज्यसभा के सदस्य बाहरी ही हैं। प्रमोद तिवारी उत्तर प्रदेश से, रणदीप सिहं सुरजेवाला हरियाणा से, केसी वेणुगोपाल केरल से, मुकुल वासनिक महाराष्ट्र से और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पंजाब से आते हैं।

अमेठी के बाद रायबरेली भी फंसी
उत्तर प्रदेश में राजनीति का सिक्का बदल चुका है। ऐसे में कांग्रेस कोई भी रिस्क नहीं लेना चाह रही है। अमेठी गवां चुकी कांग्रेस को अपनी एकमात्र सीट रायबरेली भी खतरे में दिखाई दे रही है। ऐसे में इस बार सोनिया गांधी को वहां से चुनाव नहीं लड़ाने की तैयारी है। उत्तरप्रदेश में इंडिया गठबंधन भी बहुत ज्यादा प्रभावी नहीं दिखाई दे रहा है। इसके साथ मंदिर में प्रभु की प्राण प्रतिष्ठा भी विपक्ष को प्रभावहीन करने का काम करेगी।

गुर्जर का खिलेगा गुल
भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस की रणनीति से उलट काम कर रही है। इस समय भाजपा का पूरा ध्यान स्थानीय है। भाजपा के लिए यहां दो राज्यसभा सीट हैं लेकिन सांसद कौन बनेगा यह दिल्ली से तय होगा। भाजपा सरकार में राजपूत और गुर्जर का प्रतिनिधित्व देने के लिए किसी बड़े गुर्जर चेहरे को राज्यसभा भेज सकती है। इसका सीधा असर उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली सहित कई अन्य राज्यों में देखने को मिल सकता है।

ट्रेंडिंग वीडियो