scriptvideo elephant plays mouth organ and blesses pm narendra modi at tamil nadu temple | Video: हाथी ने पीएम मोदी को दिया मंदिर में आशीर्वाद और फिर बजाया माउथ ऑर्गन | Patrika News

Video: हाथी ने पीएम मोदी को दिया मंदिर में आशीर्वाद और फिर बजाया माउथ ऑर्गन

locationनई दिल्लीPublished: Jan 20, 2024 04:47:32 pm

Submitted by:

Paritosh Shahi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज तमिनाडु के तिरुचिरापल्ली के श्रीरंगम में प्रसिद्ध श्री रंगनाथस्वामी मंदिर पहुंचे। इस मंदिर में जाने वाले पीएम पहले प्रधानमंत्री हैं।

pm_modi_elephant.jpg

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा से दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली के श्रीरंगम में प्रसिद्ध श्री रंगनाथस्वामी मंदिर में पूजा-अर्चना। भगवान श्री विष्णु की पूजा के लिए श्री रंगनाथस्वामी मंदिर को सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक माना जाता है। पूजा करने के लिए पीएम पारंपरिक पोशाक पहनकर आए। यहीं का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और एक हाथी के बीच मधुर बातचीत हो रही है। 24 सेकंड का यह वीडियो एक्स पर पोस्ट किया गया है जिसे 1.5 लाख से अधिक बार देखा गया है। बता दें कि पीएम मोदी ने 14 जनवरी को मकर संक्रांति के मौके पर अपने आवास पर गायों को खाना खिलाया था। अब उन्होंने मंदिर में हाथी को खाना खिलाया है। पीएम ने जब खाना खिलाया तो गजरात ने आशीर्वाद भी दिया। इसके बाद पीएम ने हाथी को माउथ ऑर्गन दिया, जिसे उसने अपनी सूंड में मोड़ कर बजाया।

 

दक्षिण में पैठ बनाने की कोशिश

तमिलनाडु की राजनीति में सेंध लगाने और लोकसभा चुनाव में अपनी सीटों की संख्या बढ़ाने की बेताब कोशिश कर रही भाजपा ने राज्य के सामाजिक व राजनीतिक परिवेश के साथ एक रूप होने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल किया है। प्रधानमंत्री मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री, निर्मला सीतारमण और अन्य वरिष्ठ नेताओं सहित भाजपा नेता नियमित अंतराल पर तमिलनाडु आ-जा रहे हैं और राज्य के लिए नई परियोजनाओं की घोषणा कर रहे हैं।

भाजपा लोकसभा चुनाव से पहले राजनीतिक फायदा हासिल करने के लिए स्थानीय आइकनों की लोकप्रियता पर सवारी करने के लिए तमिल सांस्कृतिक पहचान को अपनाने की भी कोशिश कर रही है। यह देखना बाकी है कि क्या इन उपायों से भाजपा को आगामी लोकसभा चुनावों में अपनी सीटों की संख्या बढ़ाने में मदद मिलेगी।

2019 में रहा था बुराहाल

साल 2019 के आम चुनावों में भाजपा को कोई फायदा नहीं हुआ। वह कुल वोटों का केवल 3.66 प्रतिशत ही हासिल कर सकी। इसके गठबंधन सहयोगियों में अन्नाद्रमुक को 19.39 प्रतिशत वोट मिले, पट्टाली मक्कल काची (पीएमके) को 5.36 प्रतिशत और देसिया मुरपोक्कू द्रविड़ कड़गम (डीएमडीके) को 2.16 प्रतिशत वोट शेयर मिले। दिलचस्प बात यह है कि द्रमुक को 33.52 फीसदी वोट शेयर मिला।

इससे पता चलता है कि भाजपा अपने दम पर राज्य में तब तक अपनी छाप नहीं छोड़ पाएगी जब तक कि वह नए फेरबदल और संयोजन पर काम नहीं करती। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि भाजपा का अन्नाद्रमुक के साथ राजनीतिक गठबंधन में नहीं है और अपने दम पर लोकसभा चुनाव लड़ने से पार्टी को इच्छित परिणाम हासिल करने में मदद नहीं मिलेगी।

बीजेपी के लिए राह मुश्किल

हालांकि काशी-तमिल संगमम, सौराष्ट्र-तमिल संगमम और अयोतियापट्टिनम का महत्व बढ़ाना, जहां श्री राम मंदिर स्थित है, कुछ ऐसे कदम हैं जो भाजपा को राज्य के लोगों के बीच सम्मान दिला सकते हैं। आने वाले दिनों में गंभीर चर्चाएं और विचार-विमर्श होंगे, लेकिन अगर भाजपा ने मजबूत गठबंधन नहीं बनाया तो पार्टी के लिए एक भी सीट जीतना मुश्किल होगा।

ट्रेंडिंग वीडियो