scriptdr mukherjee: a precursor of political philosophy as per indian cultur | डॉ. मुखर्जीः भारतीय संस्कृति के अनुकूल राजनीतिक दर्शन के प्रणेता | Patrika News

डॉ. मुखर्जीः भारतीय संस्कृति के अनुकूल राजनीतिक दर्शन के प्रणेता

  • 6 जुलाईः डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जयंती
  • डॉ. मुखर्जी सच्चे अर्थों में मानवता के उपासक और सिद्धांतवादी थे। राजनीति में उनकी सक्रियता के मायने उन आदर्शों का परिपालन था, जो मनुजता के कवच का काम करते हैं। अपने राजनीतिक आचरण में वह आध्यात्मिकता का आचमन करते प्रतीत होते हैं।

Published: July 06, 2022 10:25:54 pm

विष्णु दत्त शर्मा
मध्य प्रदेश से लोक सभा सदस्य

भारतीय जनसंघ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के व्यक्तित्व का समग्र विश्लेषण उन्हें उन युग-पुरुषों में स्थापित करता है, जो वर्तमान की देहरी पर बैठकर भविष्य की सामाजिक और राजनीतिक गणनाओं का आकलन करने में समर्थ थे। स्वतंत्रता आंदोलन के दरम्यान तीस-चालीस के दशक में उन्होंने जान लिया था कि २१वीं सदी में आजाद भारत की समस्याएं क्या होंगी? इसी के मद्देनजर उन्होंने 1951 में ही भारतीय जनसंघ के रूप में ऐसे राजनीतिक दल की नींव रखी थी, जो आज भारतीय जनता पार्टी के रूप में आजादी के अमृत महोत्सव के क्षणों में देश को उन समस्याओं से निजात दिलाने की ओर अग्रसर है, जो विरासत में मिली हैं। डॉ. मुखर्जी बंगाली भद्रलोक के प्रभावशाली परिवारों में जन्मे ऐसे व्यक्ति थे, जिनकी खुद की और परिवार की बौद्धिकता की तूती बोलती थी।
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी
मात्र 33 साल की उम्र में वह कलकत्ता विश्वविद्यालय के कुलपति बन गए थे। शिक्षा के शिखर से उतरकर भारतीय राजनीति में भी उनका पदार्पण गहन राष्ट्रीय उद्देश्यों की खातिर था। मुस्लिम लीग की विभाजनकारी राजनीति के कारण वह भारत की एकता व अखंडता पर मंडरा रहे खतरे को लेकर काफी चिंतित रहते थे। हिन्दू एकता और अखंडता पर आसन्न खतरों ने उन्हे हिंदू महासभा की ओर आकर्षित किया, जिसका नेतृत्व वीर सावरकर करते थे। 1939 में वह हिंदू महासभा के अध्यक्ष बन गए। अध्यक्ष के रूप में उन्होंने घोषणा की कि संयुक्त भारत के लिए तत्काल समग्र स्वतंत्रता हासिल करना हिंदू महासभा का मूल उद्देश्य है। आजादी के बाद महात्मा गांधी के कहने पर ही पंडित नेहरू ने डॉ. मुखर्जी को केबिनेट में शरीक किया था। केबिनेट में रहकर उन्होंने कई बड़े काम किए, पर पाकिस्तान, कश्मीर या शरणार्थियों जैसे मसलों पर दोनों के बीच राजनीतिक असहमति व्यापक और गहरी थी, जो केबिनेट से उनके इस्तीके का सबब बनी। अगस्त 1952 में लोकसभा में कश्मीर के मुद्दे पर भाषण देते हुए डॉ. मुखर्जी ने कहा था- 'दुनिया को यह पता होना चाहिए कि भारत महज एक थ्योरी या परिकल्पना नहीं है, बल्कि एक यथार्थ है... एक ऐसा देश जहां हिन्दू, मुसलमान, ईसाई और सभी बिरादरी के लोग बगैर किसी भय के समान अधिकारों के साथ रह सकेंगे... यही हमारा संविधान है, जिसे हमने बनाया है, और जिसे पूरी शिद्दत, निष्ठा और ताकत से लागू करने जा रहे हैं।' डॉ. मुखर्जी इस धारणा के प्रबल समर्थक थे कि सांस्कृतिक दृष्टि से हम सब एक हैं। इसलिए धर्म के आधार पर वे विभाजन के कट्टर विरोधी थे। वह मानते थे कि विभाजन संबंधी उत्पन्न परिस्थितियां ऐतिहासिक और सामाजिक कारणों से थीं।
डॉ. मुखर्जी महान शिक्षाविद, निरभिमानी देशभक्त, राजनीतिक चिंतक और सामाजिक दृष्टा थे। प्रखर राष्ट्रवादी के रूप में वह हमेशा देश में पहले पायदान पर खड़े मिलेंगे। डॉ. मुखर्जी सच्चे अर्थों में मानवता के उपासक और सिद्धांतवादी थे। राजनीति में उनकी सक्रियता के मायने उन आदर्शों का परिपालन था, जो मनुजता के कवच का काम करते हैं। अपने राजनीतिक आचरण में वह आध्यात्मिकता का आचमन करते प्रतीत होते हैं। सार्वजनिक जीवन में उनकी राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं का निस्वार्थ और त्याग-जनित लोकार्पण उन्हें असामान्य बनाता है। वह एक सुविचारित और भारतीय संस्कृति के अनुकूल राजनीतिक दर्शन के प्रणेता थे और उसी के निर्धारित मानदंडों के आधार पर विषयों को तौल कर विरोधियों से वाद-विवाद करते थे। विरोध के लिए विरोध और बोलने के लिए बोलना उनके राजनीतिक आचरण से कोसों दूर था। संसदीय शिष्टाचार के वह कट्टर अनुपालक थे। उनकी आलोचनाएं रचनात्मक होती थीं और सुझाव विचारपूर्ण होते थे। इसीलिए वह अपने समकालीन सांसदों में सबसे ज्यादा सम्मानित और विश्वसनीय नेता थे। कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता उनके गंभीर परामर्शों को अनसुना नहीं करते थे।
राजनीतिक मलिनताओं के बीच उनके व्यक्तित्व की उज्ज्वल प्रखरता अलग ही दमकती थी। राजनीति में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जैसे निष्काम, निस्वार्थ, निष्कपट राज-योगी का अवतरण बिरले ही होता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठककर्मचारियों के हेल्थ को ध्यान में रखते हुए, CJI एनवी रमना ने वकीलों को मास्क पहनने की दी सलाहCoal Scam: कोयला घोटाले मामले में ED ने पश्चिम बंगाल के 8 आईपीएस ऑफिसर को जारी किया समनजम्मू-कश्मीर के रामबन में लैंडस्लाइड व बादल फटने से दो लोगों की मौत, हिमाचल के कुल्लू में कई दुकानें बहींVP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौलMaharashtra: महाराष्ट्र में स्टील कारोबारी पर इनकम टैक्स का छापा, करोड़ों रुपये कैश सहित बेनामी संपत्ति जब्तJammu-Kashmir: उरी जैसे हमले की बड़ी साजिश हुई फेल, Pargal आर्मी कैंप में घुस रहे 3 आतंकी ढेरChinese Mobile Ban: भारत बैन करने वाला है चीनी मोबाइल? चीन ने भारत से की ऐसी मांग, सुनकर आप हो जाएंगे हैरान!
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.