scriptEfforts to stop black money failed | काले धन को रोकने की कोशिशें विफल | Patrika News

काले धन को रोकने की कोशिशें विफल

locationनई दिल्लीPublished: Jun 19, 2021 07:58:39 am

स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक (एसएनबी) की ओर से जारी सालाना आंकड़ों से यह जानकारी सामने आई है। यह भी बताया गया है कि 2020 में स्विस बैंकों में बढ़ा भारतीय धन 2019 की तुलना में 3.12 गुना ज्यादा है।

काले धन को रोकने की कोशिशें विफल
काले धन को रोकने की कोशिशें विफल

काले धन की महिमा अपरम्पार है। इसे जितना रोकने की कोशिश की जाती है, उतना ही फलता-फूलता है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक स्विस बैंकों में जमा भारतीयों का पैसा बढ़ता ही जा रहा है। स्विस बैंकों में भारतीयों की व्यक्तिगत और कम्पनियों की राशि करीब 20,700 करोड़ रुपए के स्तर तक पहुंच गई है। यह पिछले 13 सालों में सर्वाधिक है। यह बढ़ोतरी नकद जमा के तौर पर नहीं, बल्कि प्रतिभूतियों, बॉन्ड समेत अन्य वित्तीय उत्पादों के जरिए रखी गई होल्डिंग से हुई है। स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक (एसएनबी) की ओर से जारी सालाना आंकड़ों से यह जानकारी सामने आई है। यह भी बताया गया है कि 2020 में स्विस बैंकों में बढ़ा भारतीय धन 2019 की तुलना में 3.12 गुना ज्यादा है।

सवाल यह है कि यह काला धन आता कहां से है। अर्थशास्त्र में काले धन की कोई आधिकारिक परिभाषा नहीं है, कुछ लोग इसे समानांतर अर्थव्यवस्था के नाम से जानते हैं तो कुछ इसे काली आय, अवैध अर्थव्यवस्था और अनियमित अर्थव्यवस्था जैसे नामों से भी पुकारते हैं। यदि सरल शब्दों में इसे परिभाषित करने का प्रयास करें तो कहा जा सकता है संभवत: काला धन वह आय होती है जिसे कर अधिकारियों से छुपाने का प्रयास किया जाता है। इसे गैर-कानूनी गतिविधियों से कमाया जाता है।

काले धन का खर्च मनोरंजन, विलासिता, भ्रष्टाचार, चुनावों के वित्त पोषण, सट्टेबाजी जैसी आपराधिक गतिविधियों पर किया जाता है, जिससे एक तरफ अपराध एवं भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है तो दूसरी तरफ एक समानांतर अर्थव्यवस्था खड़ी हो जाती है। वर्ष 2014 के चुनाव प्रचार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) और भारतीय जनता पार्टी ने काले धन को बड़ा मुददा बनाकर वादा किया था कि सत्ता में आने पर विदेशों में जमा काला धन देश में लाया जाएगा। बीते सात वर्षों से इस पर चर्चा चल रही है, मगर एसएनबी की ताजा रिपोर्ट से यह जाहिर हुआ है कि काले धन को रोकने के लिए जो उपाय किए गए हैं, वे नाकाफी हैं।

काले धन को काबू करने के लिए सरकार को सख्त कदम उठाने चाहिए। चुनाव में इसका प्रयोग रोकने के लिये व्यापक कार्ययोजना बनाने की आवश्यकता है क्योंकि यहां काला धन खपाना काफी आसान है। चुनाव में तो काला धन लगाकर उसे दो-चार गुना अधिक करने का रास्ता भी तैयार किया जाता है। राजनीतिक दलों को 'सूचना का अधिकारÓ केदायरे में लाना चाहिए और इनके बही-खातों की नियमित ऑडिटिंग होनी चाहिए। साथ ही हवाला करोबार पर अंकुश लगाना चाहिए।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.