scriptGovt must be responsible for every act | उत्तरदायित्व भी तय करें | Patrika News

उत्तरदायित्व भी तय करें

देश में सर्वोच्च न्यायालय के अनेक फैसले आज तक लागू ही नहीं हुए। जयपुर के रामगढ़ बांध को ही लें। बांध के भराव क्षेत्र में खेती हो रही है और पट्टे तक काट दिए गए। कब्जों की तो गिनती ही नहीं है।

नई दिल्ली

Published: September 09, 2021 11:18:39 am

- गुलाब कोठारी

देश के मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमना ने खेद जताते हुए यह बात कही है कि 'क्या अदालतों के फैसलों का कोई सम्मान नहीं?' आजादी के सात दशक बाद जाकर यह दर्द फूटा। ऐसा लगता है कि न्यायपालिका स्वयं के सम्मान को लेकर भी चिन्तित नहीं है। क्योंकि आमजन के लिए तो अधिकांशत: फैसले एकपक्षीय ही होते हैं। ताजा उदाहरण सामने हैं। पिछले सप्ताह ही सर्वोच्च न्यायालय ने नोएडा की दो बहुमंजिला टॉवर्स को ध्वस्त करने का आदेश दिया था। मान लें कि सरकार ने इसे नहीं गिराया तो न्यायपालिका क्या बिगाड़ लेगी? यह बात इसलिए स्पष्ट होना आवश्यक है कि देश में सर्वोच्च न्यायालय के अनेक फैसले आज तक लागू ही नहीं हुए। जयपुर के रामगढ़ बांध को ही लें। बांध के भराव क्षेत्र में खेती हो रही है और पट्टे तक काट दिए गए। कब्जों की तो गिनती ही नहीं है। राज्य के कई दूसरे बांधों की भी कमोबेश यही हालत है। सूखे बांधों में पानी की आवक के रास्ते अतिक्रमण के शिकार हो गए। कॉलोनियां बस गईं। रामगढ़ समेत तमाम जलस्रोतों से अतिक्रमण हटाने को लेकर हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक के कई फैसले आ चुके। इसके बावजूद न तो अतिक्रमण हटे और न ही दोषियों की चिन्हित किया गया। क्या यह अदालतों का अपमान नहीं है!
Gulab Kothari
एक व्यक्ति की पूरी उम्र अदालतों के चक्कर लगाते निकल जाती है और फैसला तब जाकर आता है जब उसकी जीवन भर की कमाई खत्म हो जाती है। वह फैसला भी लागू न हो तो 'न्याय' हुआ माना जाए, अथवा 'नहीं मिला'? उच्च न्यायालयों के तो अनगिनत फैसले धूल खा रहे होंगे। चिंता की बात यह है कि किसी फैसला देने वाले न्यायाधीश तथा मुकदमा जीतने वाले वकील दोनों को इसमें अपमान ही नहीं लगता। होना तो यह चाहिए कि न्यायपालिका का फैसला तय समय सीमा में लागू करने व ऐसा न होने पर दण्ड की भी व्यवस्था की जाए। दण्ड किसको मिले, यह तो फाइलों पर आदेशकर्ता के नाम से ही तय हो जाएगा।
दरअसल, न्यायपालिका सरकारी तंत्र को दोषी ही नहीं मानती। सवाल यह है कि जिन टॉवर्स को तोडऩे के आदेश हुए उनके निर्माण की मंजूरी देेने वाले व निरीक्षण की रिपोर्ट देने वाले अधिकारियों को भी बराबर की सजा क्यों नहीं दी जाए? अवैध निर्माण का मामला हो या फिर माफिया को प्रश्रय देने का, अधिकारी ही अपराध में लिप्त नजर आते हैं। क्या ऐसे अधिकारियों का कार्य सदा वैध ही माना जाएगा। उनके लिए तो मानो निलम्बन-ट्रांसफर की खानापूर्ति ही कारावास की सजा है। जब तक सरकारी तंत्र को पक्ष बनाकर बराबर की सजा नहीं होगी, न तो अवैध कार्य रुकेंगे और न ही अदालती फैसलों का पालन हो पाएगा।
न्यायपालिका को अब फैसले लागू करने का तंत्र भी विकसित कर लेना चाहिए। झूठी जानकारियां/घोषणाएं कोर्ट में रखने वालों को भी सजा मिलनी चाहिए। जिस भी अधिकारी विशेष के हस्ताक्षर पाए जाएं, उनको व्यक्तिगत सजा मिलनी चाहिए। आज तो विभाग की आड़ में अधिकारियों को बचा लिया जाता है। 'भय बिनु होइ न प्रीति'।
प्रश्न यह है कि फैसला लागू कराने को लेकर न्यायालय भी जब एकपक्षीय नजर आएगा, तब जनता का विश्वास चरमराएगा। तब कौन तो फैसला लागू न होने पर अवमानना का केस करेगा और कहां से मुकदमा लडऩे के लिए घर बेचेगा। मंगलवार को ही उच्चतम न्यायालय का एक फैसला आया जिसमें मन्दिर की सम्पत्ति का मालिक देवता को बताते हुए पुजारी को सिर्फ सेवक माना है। आज तो देश में कानून-व्यवस्था का जो हाल है, उसके संदर्भ में भी इसका अर्थ देखना चाहिए। हम पुजारी की पकड़ से तो जमीन को मुक्त कराने की बात कर रहे हैं, किन्तु यहां तो अधिकांश मन्दिरों की जमीनें पहले ही सरकारी मिलीभगत से बिक चुकीं। इन्हें कौन वापस लाएगा? मंदिरों में हालत तो यह है कि भगवान के लिए कभी पोशाक के पैसे नहीं, तो कभी भोग के। मंदिरों की संपत्ति दबाने पर आज तक कितनों को सजा हुई? केवल मन्दिरों के लिए शायद इसीलिए अलग विभाग बनाया है।
दरअसल, सरकारें सेवा करना भूल गईं। व्यापारियों से भी कई गुना अधिक लूट होती दिख रही है। पानी, बिजली, परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य कोई भी महकमा अछूता नहीं है। राजस्थान में तो बिजली वितरण कंपनियां औसतन 4.35 रुपए प्रति यूनिट दर से बिजली खरीद रहीं है। जनता के पास पहुंचते-पहुंचते अन्य खर्चों सहित यह दर 8.78 रुपए प्रति यूनिट पर पहुंच रही है। इसके अलावा सरकार बिजली बिल में तीन तरह के सरचार्ज लेकर सालाना 1730 करोड़ रुपए जनता से वसूल रही है। पिछले दो-तीन साल में ही औसतन 1.50 रुपए प्रति यूनिट का भार उपभोक्ताओं पर बढ़ चुका है। इसमें बिजली खरीद राशि, 18 प्रतिशत छीजत, वेतन, कर्ज और अन्य सभी खर्चे शामिल हैं। इसके बावजूद बिजली कंपनियों का घाटा 86 हजार करोड़ रुपए को पार कर गया।
बिजली के साथ-साथ प्रदेश में जल आपूर्ति व्यवस्था भी बेहाल है। पेयजल प्रबंधन के नाम पर सालाना 3800 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं। इसमें 2000 करोड़ रुपए बिजली बिल पर और वेतन सहित अन्य खर्चों पर 1100 करोड़ रुपए जा रहे हैं। जलापूर्ति व्यवस्था रखरखाव पर करीब 700 करोड़ रुपए सालाना खर्च हो रहे हैं। जबकि पानी के बिलों से सरकार को उपभोक्ताओं से करीब 550 करोड़ रुपए ही मिल पा रहे हैं। कुप्रबंधन का आलम यह है कि आए दिन पेयजल आपूर्ति लाइनों के लीकेज से पानी की बर्बादी व दूषित जलापूर्ति की खबरें आती हैं।
ये तो सिर्फ बानगी है। सरकारें राजस्व वसूली से अधिक रकम वेतन-भत्तों व कर्ज के ब्याज पर ही खर्च कर रहीं हैं। विकास के लिए भी उधार! क्या लोकतंत्र की यही परिभाषा कानून (संविधान) में प्रदत्त है। भ्रष्टाचार भी सरकारी सिस्टम में घुन की तरह लग गया है। विकास होता दिखता ही नहीं है। ऐसे में भ्रष्टाचार और विकास के कार्यों की निगरानी का दायित्व किसे सौंपा जाए? कहीं तंत्र में लोक की चिन्ता नहीं दिखाई पड़ती। चूंकि ज्यादातर शिकायतें विधायिका व कार्यपालिका से संबंधित होती हैं। आशा की किरण अदालतें ही हैं। अत: न्यायपालिका को ही कमर कसनी होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

अफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशानाPunjab Borewell Accident: बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, अस्पताल में हुई मौतBJP को सरकार बनाने के लिए क्यूँ जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारी..पश्चिम बंगाल का पूर्व मेदिनीपुर जिला बम धमाकों से दहला, तलाशी के दौरान बरामद हुए 1000 से अधिक बमIPL 2022, SRH vs PBKS Live Updates: पंजाब ने हैदराबाद को 5 विकेट से हरायाकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थितिआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट का रो रहे हैं रोना, यहां जानेंपुजारा और कार्तिक की टीम में वापसी, उमरान मालिक को भी मिला मौका, देखें दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे का पूरा स्क्वाड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.