विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंची मंजू रानी, रचा इतिहास

विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंची मंजू रानी, रचा इतिहास

Manoj Sharma Sports | Updated: 12 Oct 2019, 04:24:43 PM (IST) अन्य खेल

मंजू रानी ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में भारत के लिए पक्का किया रजत पदक

उलान उदे (रूस)। छठी सीड भारत की मंजू रानी ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए विश्व महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। पहली बार विश्व चैंपियनशिप में भाग ले रही मंजू ने शनिवार को सेमीफाइनल में 48 किलोग्राम वर्ग में थाईलैंड की चुथामाथ काकसात को 4-1 से हराया।

मंजू ने थाईलैंड की मुक्केबाज को 29-28, 30-27, 29-28, 28-29, 29-28 से मात दी और भारत के लिए इस प्रतियोगिता का पहला रजत पदक पक्का किया। मंजू रानी विश्व महिला मुक्केबाजी के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय भी बन गई हैं।

मैरी कॉम को कांस्य से करना पड़ा संतोष-

इससे पूर्व शनिवार को ही भारत की एमसी मैरी कॉम को 51 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में तुर्की की बुसेनांज कारिकोग्लू के खिलाफ हार झेलनी पड़ी। इस हार के साथ ही छह बार की विश्व चैम्पियन मैरी को इस बार कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा। कारिकोग्लू ने भारतीय खिलाड़ी को 4-1 से शिकस्त दी।

भारत ने इस फैसले के खिलाफ अपील की, लेकिन उसे ठुकरा दिया गया। एआईबीए के निर्देशों के अनुसार, एक खिलाड़ी तभी अपील कर सकता है जब वह 2:3 या 1:3 के अंतर से मैच हारा हो। मैरी 1:4 से मुकाबला हारी थी इसलिए तकनीकी समिति ने उनके पीले कार्ड को स्वीकार नहीं किया।

मैच के बाद मैरी ने खेल मंत्री किरण रिजिजू और प्रधानमंत्री नेंरद्र मोदी को टैग करते हुए ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, "कैसे और क्यों। दुनिया को पता चलने दीजिए कि यह निर्णय कितना सही और गलत है।"

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned