CWG 2018 और यूथ ओलम्पिक में पदक जीतने वाली शूटर मेहुली घोष ने बताया अपनी सफलता का राज

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 और यूथ ओलम्पिक में भारत को शूटिंग में पदक दिलाने वाली मेहुली घोष ने शनिवार को टॉप गन शूटिंग एकेडमी

By:

Updated: 28 Oct 2018, 03:04 PM IST

नई दिल्ली। मेहुली घोष, वो नाम जो आज किसी परिचय की मोहताज नहीं है। कॉमनवेल्थ गेम्स, यूथ ओलम्पिक सहित कई अंतर्राष्ट्रीय निशानेबाजी प्रतिस्पर्धाओं में अपने नाम का सिक्का जमाने वाली इस युवा भारतीय शूटर की पूरे देश में धमक है। आज मेहुली घोष को बतौर मशहूर शूटर बताया जाता है। लेकिन इस मुकाम तक पहुंचने में मेहुली ने जो संघर्ष किया है वो अपने-आप में विशिष्ट है। आज से चार साल पहले मेहुली घोष ने शूटिंग में दुनिया में कदम रखा और आज अपनी मेहनत और लग्न के बल पर अपने खेल को निखारते हुए देश के नाम का विश्वपटल पर डंका बजा रही है। मेहुली बीते शनिवार को राजधानी दिल्ली के कालकाजी स्थित शूटिंग एकेडमी टॉपगन में युवा शूटर्स से रूबरू हुईं। इस दौरान मेहुली ने अपना अनुभव साझा करते हुए जरूरी टिप्स भी दिए। टॉपगन शूटिंग एकेडमी के संचालक और अंतरराष्ट्रीय शूटर शिमोन शरीफ ने भी मेहुली घोष के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए उन्हें शांत और तेजतर्रार शूटर बताया। पेश है उनसे से हुई बातचीत के मुख्य अंश...

मैच से उम्मीद नहीं मैच खेलें
किसी खिलाड़ी या शूटर के लिए यह बहुत जरूरी है कि वह खेल को खेल की तरह खेल न कि उसे खेलने से पहले उम्मीदें पाल कर रख ले कि उसे इस मैच के जीतने से उसे क्या हासिल होगा। अगर वह मैच से उम्मीदें रखकर खेलेगा तो वह कभी अपना सर्वेश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाएगा। जब तक आप अपने खेल को अपना सबकुछ नहीं देंगे तक आप को वो हासिल नहीं हो सकता जिसके आप हकदार हैं। क्योंकि शूटिंग देने से पहले आप से आपका सबकुछ ले लेगा तभी आपको देगा जो असल में आपको चाहिए था।

 

mehuli

नर्वसनेस को बनाएं हथियार
कोई भी शूटर अगर मैच से पहले नर्वस होता है तो यह स्वाभाविक है। क्योंकि नर्वस होना किसी भी खिलाड़ी को एहसास करता है कि वह उस मैच में है और उसके लिए कितना तैयार है। नर्वसनेस को कभी भी अपने ऊपर हावी नहीं होने दें बल्कि उसे अपना हथियार बनाएं और पूरी ताकत व तैयारी के साथ मैच खेलें।

डरना भी जरूरी है
अगर किसी खिलाड़ी या शूटर को मैच से पहले डर लगता है तो यह बहुत ही अच्छा है। क्योंकि यह डर ही उस खिलाड़ी को आगे ले जाता है और उसे उसकी मंजिल तक पहुंचने की हिम्मत और साहस पैदा करता है।

मैच में स्कोर नहीं, टेक्निक जरूरी है
अकसर मैच के दौरान ज्यादातर शूटर अपने स्कोर पर ध्यान देने लगते हैं इसको लेकर अतंरराष्ट्रीय शूटर मेहुली घोस का कहना है कि किसी भी खिलाड़ी या शूटर को मैच में अपने स्कोर पर ध्यान न देकर अपनी टेक्निक, अपना पूरा फोकस और पूरे कंट्रोल ये मैच खेलना चाहिए। तभी वो मैच के दौरान अच्छा स्कोर कर पाता है। अन्यथा उसकी सारी मेहनत बेकार हो जाती है।

उबाऊ नहीं इसे मनोरंजक बनाएं
शूटिंग बहुत ही पेशंस का गेम है और जल्दी खिलाड़ी इससे बोर होने लगते हैं। क्योंकि बार एक ही चीज करते रहने से वह इससे बोर होने लगता है, लेकिन इसी बोरियत को आपने अपना हथियार बनाना है। क्योंकि नार्मल गेम तो हर कोई खेलता है। अगर आप इस उबाऊपन को मनोरंजक बना लेंगे तो कोई भी आपके सामने नहीं टिक सकता।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned