scriptPakistan embassy in Washington ran out of funds to pay salaries | कंगाल पाकिस्तान: सर्बिया के बाद अब वाशिंगटन स्थित पाकिस्तानी दूतावास का मामला आया सामने, चार महीने से कर्मचारियों को नहीं मिला वेतन तो दिया इस्तीफा | Patrika News

कंगाल पाकिस्तान: सर्बिया के बाद अब वाशिंगटन स्थित पाकिस्तानी दूतावास का मामला आया सामने, चार महीने से कर्मचारियों को नहीं मिला वेतन तो दिया इस्तीफा

इन अवैतनिक स्थानीय कर्मचारियों को दूतावास द्वारा वार्षिक अनुबंध के आधार पर काम पर रखा गया था और मिशन के लिए बेयर-मिनिमम सैलेरी पर काम किया था, जो प्रति व्यक्ति प्रति माह 2,000 से 2,500 डॉलर तक होता है। देरी और भुगतान नहीं होने के कारण उन्होंने सितंबर में इस्तीफा दे दिया।

नई दिल्ली

Published: December 04, 2021 09:30:07 pm

नई दिल्ली।

वाशिंगटन स्थित पाकिस्तानी दूतावास ने बीते चार महीने से अपने कई कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तानी राजदूत की सक्रिय भागीदारी के कारण मामले को हल कर लिया गया। इससे पहले, सर्बिया में पाकिस्तानी दूतावास में अधिकारियों-कर्मचारियों को बीते तीन महीने से वेतन नहीं मिलने का मामला शुक्रवार को सामने आया था। यह बात खुद सर्बिया स्थित पाकिस्तानी दूतावास के सोशल मीडिया अकाउंट से पोस्ट की गई थी, जिसके बाद यह पोस्ट वायरल हो गई और लोगों ने सोशल मीडिया पर इमरान खान सरकार के जमकर मजे लिए। वैसे, पाकिस्तान सरकार ने इस पोस्ट पर किरकिरी होती देख बाद में हास्यास्पद सफाई दी कि कुछ समय के लिए सर्बिया स्थित पाकिस्तानी दूतावास का ट्विटर अकाउंट हैक हो गया था।
imran_khan.jpg
बहरहाल, वाशिंगटन में पाकिस्तानी दूतावास के स्थानीय रूप से भर्ती किए गए संविदा कर्मचारियों में से कम से कम पांच को अगस्त 2021 से अपने मासिक वेतन के भुगतान में देरी और गैर-भुगतान का सामना करना पड़ा। मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि पांच प्रभावितों में से एक कर्मचारी जो पिछले दस वर्षों से दूतावास में काम कर रहा था, उन्होंने देरी और भुगतान नहीं होने के कारण सितंबर में इस्तीफा दे दिया।
यह भी पढ़ें
-

सियालकोट में श्रीलंकाई नागरिक की‌ माॅब लिंचिंग के बाद नमल राजपक्षे ने इमरान खान को सुनाई खरी-खोटी

पाकिस्तान की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था किसी से छिपी नहीं है। बढ़ती महंगाई और भूखमरी ने आम जनता की कमर तोड़ रखी है। प्रधानमंत्री इमरान खान अक्सर अपने देश की गरीबी का रोना कभी सोशल मीडिया पर तो कभी टीवी पर रोते दिखाई दे जाते हैं। हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि इमरान सरकार अब अधिकारियों और कर्मचारियों को वेतन भी देने की स्थिति में नहीं है। यही हालत विदेशों में नियुक्त पाकिस्तानी अधिकारियों और कर्मचारियों की भी है।
इन अवैतनिक स्थानीय कर्मचारियों को दूतावास द्वारा वार्षिक अनुबंध के आधार पर काम पर रखा गया था और मिशन के लिए बेयर-मिनिमम सैलेरी पर काम किया था, जो प्रति व्यक्ति प्रति माह 2,000 से 2,500 डॉलर तक होता है।
स्थानीय कर्मचारियों, चाहे स्थायी हों या संविदात्मक, को स्वास्थ्य लाभ सहित विदेश कार्यालय के कर्मचारियों को मिलने वाले भत्ते और विशेषाधिकार नहीं मिलते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि घरेलू कर्मचारियों को आमतौर पर 'कॉन्सुलर सेक्शन' की मदद के लिए काम पर रखा जाता है, जो प्रवासी भारतीयों को वीजा, पासपोर्ट, नोटराइजेशन और अन्य कॉन्सुलर सेवाएं प्रदान करता है।
यह भी पढ़ें
-

वीडियो में देखिए कैसे पाकिस्तान में भीड़ ने श्रीलंकाई नागरिक को पीट-पीटकर मार डाला और शव को जला दिया

सूत्रों ने कहा कि ऐसे कर्मचारियों को पाकिस्तान कम्युनिटी वेलफेयर (पीसीडब्ल्यू) फंड से भुगतान किया जाता है, जो स्थानीय रूप से सेवा शुल्क के माध्यम से उत्पन्न होता है और फिर स्थानीय रूप से भी वितरित किया जाता है। स्थिति से परिचित सूत्रों का कहना है कि पीसीडब्ल्यू फंड पिछले साल ध्वस्त हो गया क्योंकि कोविड-19 महामारी के बाद वेंटिलेटर और अन्य चिकित्सा उपकरण खरीदने के लिए पैसे का इस्तेमाल किया गया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Antrix-Devas deal पर बोली निर्मला सीतारमण, यूपीए सरकार की नाक के नीचे हुआ देश की सुरक्षा से खिलवाड़Delhi Riots: दिलबर नेगी हत्याकांड में हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 6 आरोपियों को दी जमानतDelhi: 26 जनवरी पर बड़े आतंकी हमले का खतरा, IB ने जारी किया अलर्टUP Election 2022 : टिकट कटने पर फूट-फूटकर रोये वरिष्ठ नेता ने छोड़ी भाजपा, बोले- सीएम योगी भी जल्द किनारे लगेंगेपंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशइन सेक्टरों में निकलने वाली हैं सरकारी भर्तियां, हर महीने 1 लाख रोजगारमहज 72 घंटे में टैंकों के लिए बना दिया पुल, जिंदा बमों को नाकाम कर बचाई कई जानतीसरी लहर ने तीन महीने पहले पैदा किया ऑफ सीजन का खतरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.