scriptGas pipes are being given forcefully by gas agencies | E-KYC: गैस एजेंसियों पर इस तरह मनमानी कर वसूले जा रहे रुपए | Patrika News

E-KYC: गैस एजेंसियों पर इस तरह मनमानी कर वसूले जा रहे रुपए

locationपालीPublished: Dec 29, 2023 10:37:02 am

Submitted by:

Rajeev Dave

ई-केवाइसी करानी तो गैस पाइप लेना बता जरूरी, पाली की गैस एजेंसियों की ओर से जबरदस्ती दी जा रही गैस पाइप, लोगों के विरोध पर 10 जनवरी के बाद आने का कहकर लौटा रहे।

E-KYC: गैस एजेंसियों पर इस तरह मनमानी कर वसूले जा रहे रुपए
एक गैस एजेंसी के बाहर ई-केवाइसी के लिए लगी कतार।

तेल कम्पनियों की ओर से रसोई गैस उपभोक्ताओं के लिए आधार प्रमाणीकरण यानी ई-केवाईसी अनिवार्य की गई है। उधर, उज्जवला गैस योजना के तहत एक जनवरी से सिलेण्डर 450 रुपए में दिया जाना है। इसके लिए ई-केवाइसी कराने बड़ी संख्या में उपभोक्ता गैस एजेंसियों पर पहुंच रहे है। शहर की कुछ एजेंसियों पर उन उपभोक्ताओं को इ-केवाइसी कराने के लिए सिलेण्डर व गैस चूल्हे के बीच लगने वाला पाइप जबरन दिया जा रहा है। ऐसा नहीं करने पर उनको 10 जनवरी बाद आने का कहकर लौटा रहे है। कई लोग विरोध कर रहे हैं, लेकिन एजेंसी संचालक अपनी बात पर अड़े रहते हैं और उपभोक्ताओं की ई-केवाइसी नहीं कर रहे है।

बोले पाइप लेना जरूरी
शहर की एक एजेंसी पर ई-केवाइसी कराने पहुंचे बंशीलाल ने बताया कि एजेंसी में जाने पर उन्होंने गैस पाइप लेने को कहा। मैंने मना किया तो बोले लेना जरूरी है। उसके 190 रुपए ले रहे है। रामेश्वर का कहना था कि मुझे पाइप दिया है। उपभोक्ता कमलेश का कहना था कि कई उपभोक्ताओं ने गैस पाइप लेने से इनकार किया तो उनको 10 जनवरी के बाद आकर इ-केवाइसी कराने का कहकर वापस भेज दिया।
इस कारण किया ई-केवाइसी को जरूरी
वर्ष 2022 के बाद जारी सभी गैस कनेक्शन का आधार प्रमाणीकरण किया जाता है। इससे पहले रसोई गैस उपभोक्ताओं का आधार प्रमाणीकरण आवश्यक नहीं था। कई लोग दूसरे के नाम का गैस कनेक्शन उपयोग कर रहे हैं। कइयों के नाम दो-तीन कनेक्शन है। ऐसे उपभोक्ताओं का पता लगाने के लिए ई-केवाईसी करवाना अनिवार्य किया है।

टॉपिक एक्सपर्ट


ई-केवाइसी का कोई शुल्क नहीं

ई-केवाइसी कराने का कोई शुल्क नहीं है। एजेंसी संचालकों को निर्देश है कि ई-केवाइसी कराने आने वाले उपभोक्ता के सिलेण्डर व गैस चूल्हे के बीच लगने वाली पाइप यदि पांच साल पुरानी है तो आप उसे बदलवाने के लिए प्रेरित करें। यह सुरक्षा कारणों से किया है। यदि कोई उपभोक्ता पाइप नहीं लेता है तो जरूरी नहीं है।
आसीफ खान, जिला नोडल अधिकारी, उज्जवला, पाली
इनका कहना है
ई-केवाइसी का कोई शुल्क नहीं है। उसके साथ कोई उत्पाद भी नहीं बेचा जाना है। यदि ऐसा हो रहा है। इसकी जांच करवाई जाएगी।
डॉ. पूजा सक्सेना, जिला रसद अधिकारी, पाली

ट्रेंडिंग वीडियो